नई दिल्‍ली: देश की राजधानी में साल 16 दिसंबर 2012 को हुए निर्भया गैंग रेप में दिल्‍ली की कोर्ट ने आज मंगलवार को चारों दोषियों को फांसी देने के लिए डेथ वारंट जारी कर दिया है. कोर्ट ने चारों दोषियों को तिहाड़ जेल में 22 जनवरी को फांसी देने वाला डेथ वारंट जारी कर दिया. इसकी जानकारी मिलते ही निर्भया की मां आशादेवी ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा, मेरी बेटी को न्‍याय मिल गया. चारों दोषियों को फांसी देश की महिलाओं को शक्तिशाली बनाएगी. वहीं, दोषियों के वकील ने क्‍यूरेटिव पिटीशन दायर करने की बात कही है.

निर्भया की मां आशा देवी ने मंगलवार को कहा कि उनकी बेटी के दोषियों को फांसी दिए जाने से कानून में महिलाओं का विश्वास बहाल होगा. निर्भया की मां ने कहा कि 22 जनवरी उनके लिए एक बड़ा दिन होगा जब दोषियों को फांसी दी जाएगी. वहीं, गैंगरेप पीड़िता के पिता बद्रीनाथ सिंह नेेकहा,  मैं अदालत के फैसले से खुश हूं. दोषियों को 22 जनवरी को सुबह 7 बजे फांसी दी जाएगी,  इस फैसले से ऐसे अपराध करने वाले लोगों में डर पैदा होगा.

 

दिल्ली की एक अदालत ने कहा कि 2012 के निर्भया सामूहिक बलात्कार और हत्या मामले के चार दोषियों को तिहाड़ जेल में 22 जनवरी को सुबह सात बजे फांसी दी जाएगी. अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश सतीश कुमार अरोड़ा ने जिन चार दोषियों के खिलाफ यह आदेश जारी किया है उनमें मुकेश, विनय शर्मा, अक्षय सिंह और पवन गुप्ता शामिल हैं.

पट‍ियाला कोर्ट ने जारी डेथ वारंट के मुताबिक, चारों दोषियों को 22 जनवरी को सुबह सात बजे तिहाड़ जेल में फांसी पर लटकाया जाएगा. कोर्ट ने कहा, दोषी 14 दिनों के भीतर अपने कानूनी उपायों का उपयोग कर सकते हैं. वहीं, निर्भया मामले में दोषियों के पैरवीकार एपी सिंह ने कहा, हम सुप्रीम कोर्ट में क्‍यूरेटिव पिटीशन दायर करेंगे. वहीं, सूत्रों के मुताबिक, तिहाड़ जेल के अंदर फांसी देने की तैयारी कर ली गई है.

निर्भया के वकील एपी सिंह ने कहा: हम एक-दो दिन में SC में क्यूरेटिव पिटीशन दायर करेंगे. सुप्रीम कोर्ट के 5 वरिष्ठतम जज इसकी सुनवाई करेंगे. इस मामले में शुरू से ही मीडिया, जनता और राजनीतिक दबाव रहा है. इस मामले में निष्पक्ष जांच नहीं हो सकी.

16 द‍िसंबर 2012 की काली रात
-23 वर्षीया पैरामेडिकल छात्रा के साथ 16 दिसंबर, 2012 को चलती बस में गैंग रेप किया गया था
-16 दिसंबर की रात पांच दरिंदों ने 23 वर्षीया निर्भया के साथ क्रूरतम तरीके से सामूहिक दुष्कर्म किया था
– निर्भया ने मौत से 13 दिन तक जूझते हुए इलाज के दौरान सिंगापुर  के एक न‍िजी अस्‍पताल में दम तोड़ दिया था
– दुष्कर्म की इस घटना के प्रति देशभर में गुस्सा और विरोध प्रदर्शन देखने को मिला था