नई दिल्ली: बीते दिनों तिहाड़ जेल ने बक्सर जेल से 10 फांसी के फंदे बनाने के निर्देश दिए थे. इस खबर के बाहर आते ही इस चर्चा ने जोर पकड़ लिया कि निर्भया के दोषियों को फांसी दी जाएगी. इस बात की अब तक अधिकारिक रूप से पुष्टी तो नहीं की गई है लेकिन हां इसकी सुगबुगाहट का एहसास होने लगा है. दोषियो को फांसी देने वाली याचिका पर अभी तक अंतिम फैसला नहीं लिया गया है. वहीं बीते दिनों राष्ट्रपति ने भी दया याचिका खारिज करने को लेकर बयान भी दिया था.

खबरों के अनुसार तिहाड़ जेल में फांसी की कोठी की साफ-सफाई की सारी तैयारियां शुरू हो चुकी है. यही नहीं सूत्रों का कहना है कि निर्भया के दोषी कैदी भी अब शांत हो चुके हैं. वहीं बीते दिनों निर्भया के एक दोषी ने अपनी दया याचिका को वापस मंगा लिया है. बता दें कि निर्भया के साथ 16 दिसंबर के दिन दुष्कर्म की घटना को चार आरोपियों अक्षय, मुकेश, मंडोली और पवन ने अंजाम दिया था. 29 दिसंबर को निर्भया की मौत ईलाज के दौरान हो गई थी.

बता दें कि तिहाड़ जेल में फांसी का तख्ता 3 नंबर सेल में हैं. अफजल गुरू को भी यहीं रखा गया था. जहां फांसी का तख्ता है वह एरिया करीब 50 स्कवॉयर मीटर में फैला है. बता दें कि यहां जमें बारिश के पानी को निकाला जा रहा है. बता दें कि निर्भया के आरोपियों की फांसी को लेकर अब तक कोई अधिकारिक फैसला नहीं आया है. जेल प्रशासन ने आरोपियों को शिफ्ट कर 2 नबंर जेल के 3 नंबर सेल में रखा है. एक अन्य आरोपी विनय को 4 नंबर जेल में रखा गया है. अधिकारियों का कहना है कि राष्ट्रपति के यहां से क्षमा याचिका खारिज होते ही मामले की कार्रवाई शुरू कर दी जाएगी.