नई दिल्ली: निर्भया की मां आशा देवी ने अपनी बेटी के साथ सामूहिक बलात्कार एवं हत्या के मामले के चारों दोषियों को शुक्रवार की सुबह फांसी दिए जाने के बाद कहा कि आखिरकार न्याय हुआ और अब महिलाएं सुरक्षित महसूस करेंगी. निर्भया मामले के चारों दोषियों को आज सुबह साढ़े पांच बजे तिहाड़ जेल में फांसी दे दी गई. Also Read - Nirbhaya Case: नए कपड़े नहीं पहने, दोषी रो-रोकर लेते रहे सुनवाई की अपडेट, 'न्याय की सुबह' तक ऐसा रहा जेल और कोर्ट का हाल

Nirbhaya Gang Rape and Murder Case Latest Updates: चारों दोषियो को फांसी, निर्भया की मां बोलीं- आज तसल्ली मिली Also Read - निर्भया के दोषियों को आज सुबह होगी फांसी, आशा देवी ने कहा- पूरे देश को न्याय मिला है

अपने आवास पर आशा देवी ने संवाददाताओं से कहा कि न्याय में विलंब हुआ लेकिन उन्हें न्याय मिला. उन्होंने कहा कि भारत की बेटियों के लिए न्याय की खातिर उनकी लड़ाई जारी रहेगी. आशा देवी ने कहा ‘‘हम उच्चतम न्यायालय से दिशा निर्देश जारी करने का अनुरोध करेंगे ताकि भविष्य में अपराधी बचाव के लिए किसी तरह की तिकड़म न अपना सकें.’’ उन्होंने कहा कि दोषियों को फांसी के बाद अब महिलाएं निश्चित रूप से खुद को सुरक्षित महसूस करेंगी. Also Read - Nirbhaya Gangrape: दोषी अक्षय की पत्‍नी कोर्ट के बाहर हुई बेहोश, फांसी से पहले चाहती है तलाक

निर्भया की मां बोलीं- मेरी बेटी लौट नहीं सकती, लेकिन मुझे तसल्ली मिली

निर्भया के पिता ने कहा ‘‘न्याय के लिए हमारा इंतजार बेहद पीड़ादायी था. हम अपील करते हैं कि आज का दिन निर्भया ‘न्याय दिवस’ के तौर पर मनाया जाए.’’ गौरतलब है कि दिल्ली में 16 दिसंबर 2012 को एक महिला के साथ हुए सामूहिक बलात्कार एवं हत्या के मामले के चारों दोषियों को आज शुक्रवार की सुबह साढ़े पांच बजे फांसी दे दी गई. पूरे देश की आत्मा को झकझोर देने वाले इस मामले की पीड़िता को ‘‘निर्भया’’ नाम दिया गया.

निर्भया को न्याय: देश में पहली बार एक साथ फांसी पर लटकाए गए चार रेपिस्ट

इस मामले के चारों दोषियों… मुकेश सिंह (32), पवन गुप्ता (25), विनय शर्मा (26) और अक्षय कुमार सिंह (31) ने फांसी से बचने के लिए अपने सभी कानूनी विकल्पों का पूरा इस्तेमाल किया और बृहस्पतिवार की रात तक इस मामले की सुनवाई चली. सामूहिक बलात्कार एवं हत्या के इस मामले के इन दोषियों को फांसी की सजा सुनाए जाने के बाद तीन बार सजा की तामील के लिए तारीखें तय हुईं लेकिन फांसी टलती गई. अंतत: आज सुबह साढ़े पांच बजे चारों दोषियों को फांसी दे दी गई.

तीन दशक में 16 अपराधी फांसी पर लटकाए गए, निर्भया के दोषियों से पहले याकुब मेमन को हुई थी फांसी