नई दिल्‍ली: देश की जीडीपी (आर्थिक विकास दर) के नीचे की खबरों के बीच बीजेपी नेता सुब्रमण्‍यम स्‍वामी ने जहां अपनी ही पार्टी की वित्‍तमंत्री की आलोचना करते हुए कहा है कि उन्‍हें अर्थशास्‍त्र का ज्ञान नहीं है, वहीं, उन्‍होंने पीएम पर जी हजूरी करने वाले ‘यसमैन’ से घिरा बताया है. स्‍वामी ने यह बात हफिंगनपोस्‍ट.इन को दिए एक इंटरव्‍यू में कही है. स्वामी ने क्‍या पता है कि आज की वास्तविक विकास दर क्या है? सरकार 4.8 प्रतिशत बता रही है, जबकि मैं कहता हूं कि यह 1.5 फीसदी है.

बता दें कि बीजेपी स्‍वामी का स्‍वामी का यह बयान वित्‍तमंत्री निर्मला सीतारमण के उस बयान के कुछ दिनों बाद आया है, जिसमें उन्‍होंने केंद की नरेंद्र मोदी सरकार के आर्थिक ट्रैक रिकॉर्ड को ठीक होने का दावा किया था.

हावर्ड से पढ़ाई करने वाले इकोनॉमिस्‍ट सुब्रमण्‍यम स्‍वामी ने कहा, वित्‍तमंत्री कोई इकॉनॉमिक्‍स नहीं आती है. स्‍वामी ने कहा, अगर आप अर्थव्यवस्था को समझदारी से देखते हैं, तो आप देखते हैं कि विकास में कमी आई है.

स्वामी ने इंटरव्‍यू में कहा, ”क्या आप जानते हैं कि वास्तविक विकास दर आज क्या है? वे कह रहे हैं कि यह 4.8 प्रतिशत पर आ गई है. मैं कह रहा हूं कि यह 1.5 फीसदी है.

बता दें कि हाल ही में वित्‍तमंत्री सीतारमण ने वित्‍त मंत्रालय की रिपोर्ट जारी की थी, जिसमें बताया गया था कि इकोनॉमी पिछले छह माह में निचले स्‍तर पर 4.5 फीसदी रही है.

बीजेपी नेता स्‍वामी ने ये भी कहा कि समस्‍या ये है कि पीएम मोदी के सलाह भी उन्‍हें सच बताने से डरे हुए हैं. पीएम को इस बारे में कुछ भी पता नहीं है. उन्‍होंने कहा था ‘वंडरफुल ग्रोथ रेट’

स्‍वामी को वित्‍तमंत्री बनाने की मांग
स्‍वामी के इस बयान के बाद बीजेपी और राष्‍ट्रीय स्‍वयं सेवक संघ के समर्थक स्‍वामी को वित्‍तमंत्री बनाने की मांग उठा रहे हैं.
वीर सांघवी ने स्‍वामी को ट्वीट रिट्वीट करते हुए लिखा है,” मेरे लिए यह हमेशा आश्‍चर्य रहा है कि सरकार सु्ब्रमण्‍यम स्‍वामी की अनदेखी कर रही है. बीजेपी का बेस उन्‍हें प्‍यार करता. वह आरएसएस के कान रहे हैं और पिछले तीन साल में लगातार इकोनॉमी पर हमेशा खरे उतरे हैं. साथ ही वह एक मोदी लंबे समय से समर्थक रहे हैं, लेकिन उन्‍हें सुना नहीं गया.

भारत 2024 तक पांच अरब डालर की अर्थव्यवस्था होगा: शाह
केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने शनिवार को उम्मीद जताई कि 2024 तक भारत की अर्थव्यवस्था 5,000 अरब डालर की हो जाएगी और देश दुनिया की चार शीर्ष अर्थव्यवस्थाओं में गिना जा रहा होगा. मुंबई में शाह ने कहा कि पिछले पांच साल देश की अर्थव्यवस्था के विकार दूर करने वाले रहे. आगे के पांच साल ऐसे सुधारों के होंगे ताकि भारत दुनिया की सबसे सशक्त अर्थव्यवस्था बन सके। वह यहां एक कार्यक्रम  बोल रहे थे.

2024 तक पांच अरब डालर की अर्थव्यवस्था बनने का लक्ष्य
गृह मंत्री ने कहा, ‘‘2014 में भारत की अर्थव्यवस्था दो अरब डालर की थी और हम इसके आकार के हिसाब से 11वें स्थान पर थे. वहां से हम अब 2.9 अरब डालर की अर्थव्यवस्था के साथ सातवें स्थान पर आ गए हैं.’’ उन्होंने कहा, ‘‘मुझे पूरा विश्वास है कि हम 2024 तक पांच अरब डालर की अर्थव्यवस्था बनने का लक्ष्य हासिल कर लेंगे.’’