नई दिल्ली: रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने राफेल मामले में कांग्रेस के आरोपों को खारिज करते हुए शुक्रवार को कहा कि सरकार में रहते हुए कांग्रेस की मंशा विमान की खरीदने की नहीं थी, जबकि राष्ट्रीय सुरक्षा को जोखिम था. लोकसभा में राफेल मामले पर चर्चा का जवाब देते हुए सीतारमण ने कहा, ‘मेरा आरोप है कि उनका इरादा विमान खरीदने का इरादा नहीं था. राष्ट्रीय सुरक्षा को जोखिम था, लेकिन वे विमान नहीं खरीदना चाहते थे. उन्होंने कहा कि सरकारों के बीच समझौते पर 23 सितंबर, 2016 को हस्ताक्षर किया गया. पहला विमान इस तिथि से तीन साल के भीतर यानी 2019 में आ जाएगा और शेष विमान 2022 तक आ जाएंगे. Also Read - संयुक्त राष्ट्र की सुरक्षा परिषद में स्थायी सदस्यता पाने को सर्वोच्च प्राथमिकता दी: भारत

रक्षा मंत्री ने कहा कि बातचीत की प्रक्रिया 14 महीने में पूरी कर ली गई. हमने 10 साल का समय नहीं लगाया. उन्होंने कांग्रेस पर देश को इस मुद्दे पर गुमराह करने का भी आरोप लगाया. उन्होंने कहा, ‘आपने (कांग्रेस) सौदे को रोक दिया. यह भूल गए कि वायुसेना को इसकी जरूरत है. क्योंकि यह सौदा आपको रास नहीं आया. दरअसल इससे आपको पैसा नहीं मिला. Also Read - ज्योतिरादित्य सिंधिया मध्‍य प्रदेश के सबसे बड़े भूमाफिया: पूर्व केंद्रीय मंत्री

रक्षा मंत्री ने कहा कि राहुल गांधी ने बेंगलुरु में जाकर HAL के हालात पर घड़ियाली आंसू तो बहा दिया, लेकिन क्या कभी अमेठी के HAL गए. निर्मला सीतारमण के भाषण के दौरान कांग्रेस सदस्य जमकर हंगामा कर रहे हैं.  रक्षामंत्री ने कहा कि आज क्रिश्चन मिशेल इंडिया आ गया है. वह कौन से खुलासे करनेवाला है, जिसके कारण आप इतना उत्तेजित हो रहे हैं. राफेल पर चल रहा यह पूरा हंगामा गैर-जिम्मेदाराना है. कांग्रेस पूरी तरह से झूठ बोल रही है और कह रही है कि सच बोल रहे हैं. कांग्रेस प्रवक्ता ने एक जगह कहा था कि हम राफेल पर बात नहीं कर सकते क्योंकि यह आंतरिक मामला है. मैं किसी का नाम कोट नहीं कर रही हूं. Also Read - बेरोजगारी दिवस मनाए जाने के बीच प्रियंका गांधी का ऐलान- संविदा नीति के खिलाफ हम सड़कों पर उतरेंगे

निर्मला सीतारमण के बयान पर भड़के राहुल गांधी ने कहा कि मुझे अपना पक्ष रखने का पूरा हक है. उन्होंने मेरा नाम लिया है और कल आप मुझे कह रही थीं कि मैं किसी का नाम नहीं ले सकता. स्पीकर सुमित्रा महाजन ने कहा कि आप सदन में उपस्थित हैं इसलिए आपका नाम लिया गया. आपको भी मौका मिलेगा कि आप अपना पक्ष रख सकें. मैं आपको भी अपना पक्ष रखने का मौका दूंगी. राहुल गांधी ने कहा, ‘मैं चेयर का सम्मान करता हूं और मैं चाहता हूं कि रक्षा मंत्री के आरोपों का जवाब देने के लिए मुझे मौका दें.

रक्षामंत्री ने कहा कि यह कांग्रेस का कितना गैर-जिम्मेदाराना बर्ताव है कि एक कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पाकिस्तान ही मदद मांगने चले गए कि इस मोदी सरकार को हटाने में मदद करिए. मैं याद दिलाना चाहती हूं कांग्रेस को कितनी बार आपने कहा कि यह देश हित में है और सुरक्षा से जुड़ा है और हम इसकी गोपनीयता की रक्षा करेंगे. रक्षामंत्री ने कहा कि मैंने बार-बार कहा कि कीमतों की बुनियादी जानकारी साझा की जा सकती है, लेकिन हम इसे पूरी तरह से ओपन नहीं कर सकते.

रक्षामंत्री ने कहा कि हम डिबेट के लिए तैयार हैं. उन्होंने कहा कि इस सदन में अगर यह जवाब के लिए गंभीर होते तो क्या विपक्ष की सीट पर बैठकर फोटो खींचते, एक-दूसरे को कागज पास करते. इस सदन में वित्त मंत्री के ऊपर जहाज उड़ाते. रक्षा मंत्री ने कहा कि मुझ पर आरोप लगाया गया कि मैं एआईएडीएमके सदस्यों के पीछे डरकर छिपकर बैठी हूं. आज जब मैंने उनका नाम लिया तो उन्हें सफाई देने के लिए मौका चाहिए.

रक्षामंत्री ने कहा कि राफेल सौदे के लिए 74 बैठकें हुईं. बेसिक और हथियार बाले राफेल की तुलना गलत है. कांग्रेस किस आधार पर विमान का दाम 526 करोड़ रुपए बता रही है. हमने 9 फीसदी सस्ते विमान खरीदे हैं. रक्षामंत्री ने कहा कि संवेदनशीलता के चलते राफेल की कीमत नहीं बता सकते. रक्षामंत्री ने कहा कि देशहित में राफेल की कीमत नहीं बता सकते.रक्षामंत्री ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले का जिक्र करते हुए कहा कि कोर्ट ने राफेल सौदे पर सवाल नहीं उठाए. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि संवेदनशीलता के चलते दाम बताना ठीक नहीं होगा.