नई दिल्ली: संरक्षणवादी कार्यकर्ता कागज का उत्पादन करने वाली एक कंपनी की सह संस्थापक निशा बोरा ने मंगलवार को दावा किया कि पद्मभूषण से सम्‍मानित मशहूर चित्रकार जतिन दास ने 14 साल पहले उसका यौन शोषण किया था. 76 साल दास ने आरोपों को अश्लील बताते हुए खारिज कर दिया. दास देश में जोर पकड़ चुके ‘मी टू’ अभियान के तहत यौन शोषण के आरोपों का सामना करने वाली सबसे नई चर्चित हस्ती हैं. वे एक्‍ट्रेस नंदिता दास के पिता हैं.

#MeToo:महिला पत्रकार के पति ने कहा, ‘यह अकबर बनाम रमानी नहीं, सरकार बनाम रमानी है’

निशा बोरा ने मंगलवार को ट्वीट किया, “मैं जतिन से उनके स्टूडियो में खिड़की गांव में मिली थी..दूसरी बात जो मैं जानती हूं वह यह कि उन्होंने मुझे पकड़ने की कोशिश की थी. मैं घबराकर उनसे दूर हो गई. इसके बाद उन्होंने फिर ऐसा करने की कोशिश की. इस बार वह भद्दे तरीके से मेरे होठों को चूमने में कामयाब रहे.”

#MeToo: एक और महिला पत्रकार ने अकबर पर लगाए आरोप, ‘होटल में बुलाया, अंडरवियर पहने हुए खोला दरवाजा’

बोरा एलरहिनो पेपर की सह संस्थापक है. यह संगठन असम में स्थित है, जो गैड़ो व हाथी के गोबर से हाथ के कागज बनाता है. बोरा ने कहा कि वह दास से 2004 में इंडिया इंटरनेशनल सेंटर में मिली थीं. उस समय बोरा की उम्र 28 साल थी.

आज भी उनकी दाढ़ी की चुभन महसूस करती
बोरा ने कहा, “मैं आज भी उनकी दाढ़ी की चुभन महसूस करती हूं. मैं उन्हें (जतिन दास) धक्का देकर दूर हो गई. उस समय उन्होंने मुझसे कहा था कि आओ भी, अच्छा लगेगा. यह ऐसा ही कुछ.”

#MeToo के बाद #HeToo? ‘उसने मेरी पैंट में हाथ डालने की कोशिश की थी’, Race 3 के एक्टर साकिब सलीम का भी हुआ था यौन शोषण

लगता था कि मुसीबत के लिए खुद जिम्मेदार हूं 
बोरा ने कहा, “मेरा मानना था कि इस बारे में बात करने से दिक्कत पैदा होगी. मुझे लगता था कि उस मुसीबत के लिए मैं खुद जिम्मेदार हूं और मुझे ही उससे निपटना है. मैं खुद को दोषी और शर्मिदा महसूस करती थी.”

#MeToo दिया मिर्जा ने साजिद को कहा घटिया आदमी, बोलीं- मैं भी आहत हूं

जतिन दास की बेटी अभिनेत्री नंदिता दास से छोटी थीं
बोरा ने कहा कि वह जतिन दास की बेटी फिल्म निर्माता व अभिनेत्री नंदिता दास से छोटी थीं. बोरा (42) का कहना है कि यौन उत्पीड़न की शिकार हो चुकीं महिलाओं की कहानियों को सुनकर उनके छिपे हुए घाव उभरकर सामने आ गए.

#Metoo: आलोक नाथ ने विनता पर किया मुकदमा, मांगा 1 रुपये का मुआवजा कहा- लिखित माफी मांगें

अपने स्टूडियो में यौन उत्पीड़न किया
निशा बोरा ने ट्विटर पर दास से जुड़ी अपनी घटना की जानकारी साझा की. उसने कहा कि वह तब 28 साल की थी और दास ने एक रात्रिभोज कार्यक्रम के दौरान उससे पूछा कि क्या ”उनके सामान को व्यवस्थित करने में मदद के लिए उसके पास समय और इच्छा है.” और जब उसने प्रस्ताव स्वीकार कर लिया तो काम के दूसरे दिन दास ने खिड़की गांव स्थित अपने स्टूडियो में उसका यौन उत्पीड़न किया.

सलमान की ex गर्लफ्रेंड सोमी अली बोली- 14 की उम्र में मेरे साथ रेप हुआ था, और भी महिलाएं #MeeToo से जुड़ें

मैं उनके आलिंगन से निकली
निशा ने ट्विटर पर लिखा, ”उन्होंने मुझे पकड़ने की कोशिश की. मैं उनके आलिंगन से निकल गई, गुस्सा दिखाया. इसके बाद उन्होंने फिर से ऐसा किया. मैंने उन्हें धक्का दिया और उनसे दूर चली गई.” निशा ने कहा, ” उस समय उन्होंने कहा, अरे, अच्छा लगेगा.’ या ऐसा ही कुछ कहा था. मुझे यह याद है कि जब मैं पीछे हट रही थी, उन्हें इसपर विश्वास नहीं हो रहा था. मैंने अपना झोला उठाया और घर के लिए भागी. इसके बारे में कभी बात नहीं की. अब कर रही हूं.”

#MeToo के बाद #HeToo? अभिनेता राहुल राय ने कहा बॉलीवुड में पुरुषों को भी करना पड़ता है समझौता

नंदिता दास ने  फोन किया था 
निशा ने अपने एक दूसरे ट्वीट में यह भी लिखा कि दो दिन बाद दास की बेटी और मशहूर फिल्म अभिनेत्री-निदेशक नंदिता दास ने उसे फोन किया और पूछा कि ”क्या वह (अपनी जैसी ही) कोई दूसरी महिला सहायक ढूंढ़ने में उनकी मदद कर सकती है” .

बेशर्मी से मुझे घुटन हो रही
निशा ने कहा, ”उन्होंने (नंदिता) मुझे अपने बारे में बताया और कहा कि उनके पिता ने उन्हें मेरा फोन नंबर दिया था. आज उस आदमी की बेशर्मी से मुझे घुटन हो रही है.”

चित्रकार ने आरोपों को अश्लील बताया
हालांकि, चित्रकार ने आरोपों से इनकार करते हुए कहा कि आजकल लोगों के खिलाफ आरोप लगाने का एक खेल चल रहा है जिसका मकसद केवल मौज लेना है. उन्होंने अपने खिलाफ लगाए गए आरोपों को अश्लील बताया.

उसे नहीं जानता, ना ही उससे कभी मिला हूं
दास ने कहा, ”मैं स्तब्ध हूं. आजकल हर तरह की चीजें हो रही हैं. कुछ लोग कुछ करते हैं तो कुछ लोग आरोप लगाते हैं. मैं उसे नहीं जानता, ना ही उससे कभी मिला हूं, और अगर मैं किसी से कहीं पर मिला भी तो कोई इस तरह से व्यवहार नहीं करता. यह अश्लील है.”

केवल मौज लेने के लिए आरोप लगा रहे
जतिनदास ने कहा, ” एक खेल चल रहा है, जहां कुछ लोगों ने सच में कुछ चीजें की हैं, कुछ केवल मौज लेने के लिए आरोप लगा रहे हैं.” उन्होंने बोरा को पहचानने से भी इनकार कर दिया.

तो यह बहुत घटिया है
जतिन ने कहा, “अगर आप सैंकड़ों लोगों से मिलते हैं और जब कोई इस तरह के आरोप लगाता है तो यह बहुत घटिया है. उन चेहरों को याद रखना बहुत मुश्किल है, लेकिन कोई इस हद तक नहीं गिर सकता.”