नई दिल्ली: केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने कहा कि सड़क दुर्घटनाओं को लेकर अगर नीति न बनाकर इंतज़ार ही करते रहे तो 2030 तक देश में कई लाख लोगों की मौत हो जाएगी. इसलिए लक्ष्य है कि 2025 तक सड़क दुर्घटना और इससे होने वाली मौतों को किसी भी तरह से कम किया जायेगा. उन्होंने कहा कि पांच साल में मौतों में कमी आएगी. सड़क हादसे के शिकार हुए लोगों की जान बचाने के साथ कोई समझौता नहीं होना चाहिए. Also Read - नितिन गडकरी के मंत्रालय ने सिर्फ 18 घंटे में बनाई 25 KM लम्बी सड़क, लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में दर्ज होगी उपलब्धि

सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री गडकरी ने कहा कि देश में हर दिन सड़क दुर्घटनाओं में 415 लोगों की मौत हो जाती है. उन्होंने कहा कि लोगों की जान बचाने के काम में तेजी लाने की जरूरत है. मंत्री ने कहा कि पिछले साल केंद्र ने स्वीडन में एक सम्मेलन में भागीदारी की जहां 2030 तक भारत में सड़क दुर्घटनाओं में एक भी मौत नहीं होने देने का विचार व्यक्त किया गया. Also Read - Nitin Gadkari परिवहन एवं राजमार्ग और MSME मंत्रालय में Electric Vehicles करेंगे अनिवार्य

राजमार्ग मंत्री ने कहा, ‘‘हमने वादा किया था कि हम दुर्घटनाओं में होने वाली मौतों की संख्या में 50 प्रतिशत तक गिरावट लाएंगे. आज हमने तमिलनाडु की सफलता की कहानी देखी है. वहां (तमिलनाडु) हादसों और मृत्यु संख्या में 53 प्रतिशत की गिरावट आयी है.’’गडकरी ने कहा कि ‘‘हमें 2030 तक इंतजार करना होगा, तब तक सड़क दुर्घटनाओं के कारण कम से कम छह-सात लाख लोगों की मौत हो जाएगी. वर्ष 2025 के पहले देश को हादसों और मौत की संख्या में 50 प्रतिशत की गिरावट लानी होगी.’’ Also Read - क्या FASTag लगवाने की समय सीमा आगे बढ़ाई गई? बिना FASTag वालों के लिए नितिन गडकरी ने दी बड़ी खबर

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि सरकार सड़क पर दुर्घटना संभावित क्षेत्र की पहचान करने और इसके समाधान के लिए 14,000 करोड़ रुपये खर्च करेगी.राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा महीना की शुरुआत के दौरान गडकरी ने कहा, ‘‘विश्व बैंक और एशियाई विकास बैंक ने सात-सात हजार करोड़ रुपये की दो परियोजनाओं को मंजूरी दे दी है. वित्त मंत्रालय से भी जल्द मंजूरी मिलने की उम्मीद है. हम दुर्घटना संभावित क्षेत्रों की पहचान के लिए 14,000 करोड़ रुपये खर्च करेंगे.’’

मंत्री ने उम्मीद जतायी कि मार्च अंत तक रोज 40 किलोमीटर सड़क निर्माण के लक्ष्य को भी हासिल कर लिया जाएगा.गडकरी ने कहा, ‘‘अब तक हम सड़क निर्माण का रिकॉर्ड तोड़ चुके हैं. आज हमने (प्रतिदिन) 30 किलोमीटर से ज्यादा सड़क निर्माण का लक्ष्य हासिल कर लिया है, हम प्रतिदिन 40 किलोमीटर सड़क निर्माण का लक्ष्य हासिल करेंगे.’’

इस अवसर पर, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि सड़क दुर्घटनाओं के कारण ना केवल जान की क्षति होती है बल्कि देश की अर्थव्यवस्था पर भी इसका असर पड़ता है.सड़क परिवहन और राजमार्ग राज्य मंत्री वी के सिंह ने कहा कि विभिन्न कारणों से हर साल सड़क दुर्घटनाओं में करीब 1.5 लाख लोगों की मौत हो जाती है.