पटना: जनता दल (युनाइटेड) के अध्यक्ष नीतीश कुमार ने यहां शनिवार को कहा कि राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) में कहीं कोई मतभेद नहीं है. उन्होंने कहा कि बिहार में भाजपा के साथ मिलकर काम कर रहे हैं और आगे भी करेंगे. उन्होंने पार्टी उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर के विषय में कहा कि वह खुद बताएंगे कि वह आगे क्या करेंगे. Also Read - Gujarat के Ex-Minister की पोती के इंगेजमेंट में हुआ ऐसा डांस, Video वायरल होने पर अब मांग ली माफी

Also Read - Mumbai में UP के CM योगी से शिवसेना ने बॉलीवुड और Film City के प्‍लान को लेकर किया सवाल

  Also Read - JP Nadda Birthday: ABVP के छात्र नेता से लेकर BJP के राष्ट्रीय अध्यक्ष तक, जेपी नड्डा ने ऐसे छुईं ऊँचाईयां

इससे पहले पटना में जद (यू) के प्रदेश कार्यालय में मुख्यमंत्री ने पार्टी के सदस्यता अभियान की शुरुआत की. इसके बाद बाद पत्रकारों से चर्चा करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रशांत किशोर का एक संगठन है, जो विभिन्न राजनीतिक दलों के लिए चुनावी रणनीति बनाने का काम करता है. उन्होंने कहा कि उनका अपना संगठन है. वह कल (रविवार) की बैठक में आएंगे. वह (प्रशांत किशोर) खुद बताएंगे कि उनकी क्या मंशा है. इससे पार्टी को कोई लेना-देना नहीं है कि वह संगठन को लेकर किससे मिलते हैं.

ममता से मिले प्रशांत किशोर, पश्‍च‍िम बंगाल में TMC के मिशन 2021 के लिए कर सकते हैं काम

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और प्रशांत किशोर से मुलाकात के संबंध में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि कोई पार्टी में रह के पार्टी के खिलाफ काम नहीं कर सकता. अब वह बंगाल में क्या करेंगे, वह खुद बताएंगे. खुद ही सोच लेंगे, निर्णय लेंगे. उन्होंने हालांकि यह भी कहा कि उनके अन्य दलों के लिए काम करने से मीडिया में भ्रम की स्थिति बन रही है. इससे पूर्व नीतीश ने पार्टी की सदस्यता अभियान की शुरुआत की. उन्होंने पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं से ज्यादा से ज्यादा लोगों को जद (यू) से जोड़ने की अपील की.

इस मौके पर प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह और नीतीश कुमार ने अपने-अपने मतदान केंद्र के 25-25 मतदाताओं को पार्टी की सदस्यता दिलाई. मोदी मंत्रिमंडल में जगह नहीं होने के फैसले पर पूछे जाने पर नीतीश ने एकबार फिर कहा कि भाजपा के पास पूर्ण बहुमत की सरकार है और सरकार में शामिल होना कोई जरूरी नहीं है. उन्होंने कहा कि हम पूरी मजबूती के साथ राजग के साथ हैं, लेकिन सांकेतिक प्रतिनिधित्व आज भी स्वीकार्य नहीं है. अगले साल विधानसभा चुनाव है, जद (यू) और भाजपा मिलकर काम कर रहे हैं और आगे भी करते रहेंगे. इसमें किसी को भ्रम में नहीं पड़ना चाहिए.