नई दिल्ली. लोकसभा में शुक्रवार को सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा शुरू करने की जिम्मेवारी तेलुगू देशम पार्टी (टीडीपी) ने अपने सांसद जयदेव गल्ला को सौंपी. गल्ला ने जिस तरीके का भाषण दिया, उससे साफ है कि वह अपनी पार्टी की उम्मीदों पर पूरी तरह से खरे उतरे. गल्ला ने अपने भाषण के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनकी सरकार के खिलाफ जमकर हमला किया. आंध्रप्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने के मुद्दे पर लाए गए अविश्वास प्रस्ताव के दौरान, टीडीपी के इस सांसद की ओर पहली बार देश का ध्यान गया. ढेर सारे आंकड़े, प्रधानमंत्री के भाषणों के उद्धरणों और तीखी टिप्पणियों के साथ आंध्रप्रदेश के पक्ष में पेश किए गए गल्ला के तर्कों पर सदन में हंगामा भी हुआ, लेकिन गल्ला रुके नहीं. आंध्रप्रदेश के गुंटूर से सांसद और 600 करोड़ से ज्यादा की संपत्ति घोषित करने वाले उद्योगपति गल्ला ने टीडीपी के सबसे बड़े ‘राजनीतिक हथियार’ के प्रक्षेपण को बखूबी अंजाम दिया. Also Read - VIRAL VIDEO: क्या साथ रह रहे हैं रणबीर कपूर और आलिया, कोरोना लॉकडाउन के बीच साथ आए नजर

भाषण पूरा कर राहुल ने पीएम को दी झप्पी, सब रह गए हैरान Also Read - कोरोना वायरस से मुकाबला के लिये पीएम मोदी ने की आपात राहत कोष की घोषणा, अक्षय कुमार ने दिए 25 करोड़

साले की फिल्म का दिया उदाहरण
टीडीपी सांसद जयदेव गल्ला ने अपने भाषण में साले महेश बाबू की फिल्म ‘भारत अने नेनु’ का भी जिक्र किया. उद्योगपति एवं नेता ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार के समक्ष बहस के दौरान इस बात पर जोर देने के लिए फिल्म का जिक्र किया कि ‘वादों को पूरा किया जाना चाहिए.’ नवीनतम तेलुगू ब्लॉकबस्टर ‘भारत अने नेनु’ जिसका अर्थ है ‘मैं भारत’. इस फिल्म में एक युवा एनआरआई की कहानी है, जो अपने मुख्यमंत्री पिता के अचानक निधन के बाद भारत लौटता है. सांसद गल्ला ने कहा, ‘भारत राजनीति में अनिच्छा से प्रवेश करता है और एक युवा, जोश से भरपूर व सबका प्यारा मुख्यमंत्री बन जाता है.’ सांसद ने कहा कि फिल्म का विषय विश्वास के बारे में है और भारत अपनी मां की सलाह को बार-बार याद करता है कि एक वादा, वादा होता है. अगर कोई शख्स वादा करता है और उसे पूरा नहीं करता तो उसे खुद को इंसान कहने का अधिकार नहीं है. उन्होंने कहा, ‘यह फिल्म एक ब्लॉकबस्टर रही क्योंकि लोगों की सामान्य मनोदशा की झलक इस फिल्म में अच्छी तरह से दर्शाई गई है. लोग खाली आश्वासन और अपूर्ण प्रतिबद्धताओं से तंग आ चुके हैं.’ Also Read - इस रेस्टोरेंट मालिक ने बनाया लजीज कोरोना बर्गर, बोले- 'कुछ डराए तो उसे खा जाएं...'

राहुल गांधी ने कहा, देश समझ गया है कि मोदी चौकीदार नहीं, भागीदार हैं

फिल्म के जिक्र पर सोशल मीडिया में चर्चा
जयदेव गल्ला, जिनका परिवार अमारा राजा समूह का मालिक है. महेश बाबू के पिता व अनुभवी तेलुगू अभिनेता कृष्णा के दामाद हैं. सबसे अमीर सांसदों में से एक जयदेव गल्ला ने वर्ष 2014 के लोकसभा चुनावों के दौरान 683 करोड़ रुपए की संपत्ति घोषित की थी. उनके द्वारा महेश बाबू की फिल्म का जिक्र किए जाने से सोशल मीडिया पर विभिन्न प्रतिक्रियाएं आने लगी. कुछ ने टिप्पणी की कि वह अपने साले की फिल्म का प्रचार करने की कोशिश कर रहे हैं, जबकि अन्य ने टिप्पणी की है कि यह दिखाता है कि कैसे राजनीति और फिल्में गहराई से एक-दूसरे से जुड़ी हुई हैं, खासकर आंध्र प्रदेश में.

No Confidence Motion: शिवसेना-बीजद वोटिंग में नहीं लेंगी हिस्सा, बहुमत के लिए अब चाहिए 249 वोट, ये है पूरा गणित

No Confidence Motion: शिवसेना-बीजद वोटिंग में नहीं लेंगी हिस्सा, बहुमत के लिए अब चाहिए 249 वोट, ये है पूरा गणित

इलिनॉयस यूनिवर्सिटी के शिक्षित हैं जयदेव
टीडीपी सांसद जयदेव गल्ला आंध्रप्रदेश की गुंटूर लोकसभा सीट से वर्ष 2014 में पहली बार सांसद बने हैं. चित्तूर में जन्मे गल्ला ने अमेरिका में उच्च शिक्षा ग्रहण की है. इलिनॉयस के वेस्टमॉण्ट हाईस्कूल से शुरुआती शिक्षा लेने के बाद उन्होंने ग्रेजुएशन के लिए इलिनॉयस यूनिवर्सिटी में दाखिला लिया. राजनीतिशास्त्र और इकोनॉमिक्स में स्नातक जयदेव गल्ला आंध्रप्रदेश के जाने-माने उद्योगपति परिवार से आते हैं. बतौर सांसद वे कई संसदीय समितियों के सदस्य हैं. रक्षा, वाणिज्य और कई अन्य संसदीय समितियों में वे सदस्य के रूप में अपना योगदान दे चुके हैं.

(इनपुट – एजेंसी)