नई दिल्ली। सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पर लोकसभा में आज हंगामेदार बहस हुई. विपक्ष की ओर से कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी सहित दूसरे दलों के कई नेताओं सरकार पर हमला बोला. वहीं, सत्तापक्ष की तरफ से भी विपक्ष को जवाब दिया गया. गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने इस दौरान सदन में एनडीए सरकार की उपलब्धियों को सामने रखा. साथ ही उन्होंने अविश्वास प्रस्ताव के औचित्य पर सवाल उठाते हुए विपक्ष को निशाने पर लिया. Also Read - लखनऊ में बनेंगे 600 बिस्तरों वाले दो कोविड अस्पताल, राजनाथ ने DRDO को को दिए निर्देश

Also Read - सोनिया गांधी ने बुलाई कांग्रेस कार्य समिति की बैठक, देश में कोरोना की बिगड़ती स्थिति पर करेंगी चर्चा

राजनाथ ने याद दिलाया विपक्ष धर्म Also Read - CBSE Board Exams Updates: केजरीवाल ने केंद्र से बोर्ड परीक्षा रद्द करने की मांग की, कहा- ऐसे हालात में एग्जाम के बदले...

राजनाथ सिंह ने कहा, आज लद्दाख कारगिल में बीजेपी का परचम लहरा रहा है. हमने त्रिपुरा में भी सरकार बनाई. कोई भी कल्पना नहीं कर सकता था कि बीजेपी यहां अपने दम पर जीत सकती है. लेकिन हमने कर दिखाया. उन्होंने कहा, कई साल पहले कांग्रेस अटल सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाई थी. लेकिन हमने कभी भी ऐसा नहीं किया. हम मनमोहन सरकार के खिलाफ कभी प्रस्ताव नहीं लाए क्योंकि बहुमत उनके साथ था. हम चाहते हैं कि विपक्ष का सम्मान हो, उनकी भावनाओं को अहमियत मिले. कई लोगों को पहले से ही लगता है कि प्रस्ताव गिर जाएगा, फिर भी हमें लगा कि विपक्ष की इच्छा का सम्मान करते हुए इस पर चर्चा करनी चाहिए.

34 साल बाद सिर्फ बीजेपी को ही मिला बहुमत

राजनाथ ने कहा, हमारा मानना है कि अगर बहुमत हो तो सरकार चलने देना चाहिए. 4 सालों से हमारी सरकार चल रही है. इस देश में 34 बरस पहले ही किसी पार्टी को स्पष्ट बहुमत मिला. या फिर आज से 4 साल पहले किसी पार्टी को पूर्ण बहुमत मिला. ये एक ऐतिहासिक हकीकत है. कभी भी किसी गैर कांग्रेसी सरकार को पूर्ण बहुमत नहीं मिला. अगर किसी पार्टी को बहुमत मिला तो वह है बीजेपी. आज जो लोग हमारे खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाए हैं उन्हें ही एक दूसरे पर विश्वास नहीं है. अगर इस गठबंधन में नेतृत्व की बात हो जाए तो समझो गई भैंस पानी में. गठबंधन में कौन कौन दल हैं इसको लेकर ही संशय है.

हमलों से तिलमिलाई बीजेपी, राहुल गांधी के खिलाफ लाएगी विशेषाधिकार हनन का प्रस्ताव

राजनाथ ने कहा, अविश्वास प्रस्ताव लाने वालों को ये समझना चाहिए कि किसके खिलाफ प्रस्ताव ला रहे हैं. जिस नेता पर पूरे देश को विश्वास है, जिस नेता की अपील पर करोड़ों लोगों ने गैस सब्सिडी को छोड़ दी, उस नेता के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाए हैं. लाखों की तादात में सीनियर सिटीजन ने हमारे नेता की अपील पर छूट में रेल यात्रा करना छोड़ दिया, आज उसके खिलाफ प्रस्ताव लाए हैं.

नोटबंदी के बावजूद जनता ने दिखाया भरोसा

उन्होंने कहा, नोटबंदी से लोगों कोबहुत दिक्कत हुई, जनता ने कष्ट उठाया. इसके बावजूद जनता का हम पर विश्वास था इसलिए यूपी में जनता ने बीजेपी को स्पष्ट बहुमत दिया. नोटबंदी पर विपक्ष ने जनता को गुमराह किया. ये मैं नहीं कह रहा, अंतर्राष्ट्रीय एजेंसी कह रही कि विश्व में सबसे तेज विकास करने वाली अर्थव्यवस्था भारत की है. एजेंसियों ने कहा है कि जीडीपी 7.8 फीसदी से भी उपर जा सकती है.