नई दिल्ली: तृणमूल कांग्रेस ने आज केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह पर झूठ बोलने का आरोप लगाते हुए कहा कि वे इस बारे में झूठ बोल रहे हैं कि पश्चिम बंगाल सरकार ट्रेनों को राज्य में पहुंचने की इजाजत नहीं दे रही है. पश्चिम बंगाल में सत्तारूढ़ पार्टी ने कहा कि राज्य सरकार ने कर्नाटक, तमिलनाडु, पंजाब और तेलंगाना से प्रवासियों को लाने के लिए आठ ट्रेन चलाने की योजना बनाई है. लेकिन रेलवे के एक बयान से लग रहा है कि बंगाल की ममता सरकार झूठ बोल रही है. Also Read - Lockdown 5.0: एक बार फिर बढ़ने जा रही है लॉकडाउन की अवधि! क्या करें, क्या न करें, जानें सबकुछ

दरअसल पश्चिम बंगाल में फंसे प्रवासियों को पश्चिम बंगाल पहुंचाने को लेकर जारी विवाद के बीच, रेलवे के अधिकारियों ने शनिवार को कहा कि राज्य तक ‘श्रमिक स्पेशल’ ट्रेन चलाने के लिए राष्ट्रीय परिवाहक के पास कोई प्रस्ताव नहीं है. भारतीय रेलवे की यह प्रतिक्रिया तृणमूल कांग्रेस के उस बयान के तुरंत बाद आई है जिसमें पार्टी ने कहा कि वह कर्नाटक, तमिलनाडु, पंजाब और तेलंगाना से प्रवासियों को लाने के लिए आठ ट्रेन चलाने की पहले ही योजना बना चुकी है. Also Read - भाजपा हिमाचल स्वास्थ्य विभाग में 'भ्रष्टाचार के पाप' से छुटकारा नहीं पा सकती : कांग्रेस

रेलवे ने कहा कि उसके पास अब तक उस ट्रेन का भी प्रस्ताव नहीं है जिसके बारे में तृणमूल कांग्रेस दावा कर रही है कि यह ट्रेन शनिवार अपराह्न तीन बजे हैदराबाद से मालदा के लिए रवाना होगी. भारतीय रेलवे ने पश्चिम बंगाल के लिए अब तक केवल दो ट्रेन तय की हैं, एक राजस्थान से और अन्य केरल से. Also Read - सावधान: हवाई यात्रा में रहें सतर्क, स्पाइसजेट की अहमदाबाद से गुवाहाटी की उड़ान में दो यात्री कोरोना वायरस संक्रमित

रेलवे की ओर से इन ट्रेनों के लिए जारी दिशा-निर्देश के मुताबिक इन ट्रेनों को चलाने के लिए यात्रियों की संख्या की जानकारी के साथ ही दोनों राज्यों से प्रस्ताव प्राप्त होना अब भी बाकी है. अधिकारियों ने कहा कि रेलवे ने शनिवार तक 47 ट्रेनों को चलाने की योजना बनाई है और इनमें से कोई भी पश्चिम बंगाल नहीं जाएगी.

तृणमूल कांग्रेस ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह पर यह “झूठ” बोलने का शनिवार को आरोप लगाया कि पश्चिम बंगाल सरकार राज्य तक ट्रेनों को आने की अनुमति नहीं दे रही और कहा कि राज्य ने कर्नाटक, तमिलनाडु, पंजाब और तेलंगाना से प्रवासियों को लाने के लिए आठ रेलगाड़ियों की योजना पहले से ही बनाई हुई है.

शाह ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री को शनिवार को पत्र लिखकर कहा कि केंद्र ने दो लाख प्रवासियों को घर लौटने में मदद की है लेकिन उसे राज्य से उम्मीद के मुताबिक सहयोग नहीं मिल रहा है.

(इनपुट भाषा)