नोएडा (उत्तर प्रदेश): अक्सर बिना रजिस्ट्री के ही खरीददार को घर/फ्लैट का कब्जा दे दिया जाता है, लेकिन अब यदि ऐसा हुआ तो बिल्डर के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी. जिला प्रशासन बिना रजिस्ट्री के आवंटियों को उनके मकान/फ्लैट पर कब्जा देने वाले बिल्डरों के खिलाफ कार्रवाई कर रहा है. इस अभियान के तहत 30 बिल्डरों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है. Also Read - बाहुबली MLA विजय मिश्रा की MLC पत्‍नी और बेटे की संपत्ति कुर्की आदेश को चुनौती वाली याचिका खारिज

Also Read - आत्मनिर्भर भारत: कानपुर के दो लड़कों का कमाल, बनाए स्ट्रीट लाइट्स के लिए स्मार्ट स्विच, खुद होंगे On-Off

बुलंदशहर हिंसा थी साजिश, राजनीतिक आधार खो चुके लोगों ने कराया बवाल: सीएम योगी Also Read - शादीशुदा शख्स का हुआ अपहरण, पुलिस ने ढूंढ़ा तो प्रेमिका संग कर रहा था...

गौतमबुद्ध नगर के जिलाधिकारी बृजेश नारायण सिंह ने बुधवार को एक संवाददाता सम्मेलन के दौरान यह जानकारी दी. उन्होंने बताया कि स्टांप एवं निबंध विभाग के अधिकारियों ने एक व्यापक सर्वेक्षण किया जिसमें यह बात सामने आयी कि नोएडा के कई बिल्डर लोगों को रिहायशी तथा व्यवसायिक यूनिटों पर बिना रजिस्ट्री के ही कब्जा दे रहे हैं.

दुनिया की सबसे बड़ी मोबाइल फैक्ट्री नोएडा में, 5 करोड़ से ज्यादा हैंडसेट बनेंगे

उन्होंने बताया कि इस वजह से ना तो आवंटियों को मालिकाना हक प्राप्त हो रहा है और ना ही राज्य सरकार को राजस्व मिल रहा है. सिंह ने बताया कि प्रशासन ने अभी तक ऐसी गलती करने वाले 30 बिल्डरों के खिलाफ मामला दर्ज कराया है. उन्होंने बताया कि अभियान शुरू किए जाने के बाद छह बिल्डरों ने अपने-अपने आवंटियों के नाम रजिस्ट्री शुरू कर दी है. सिंह ने कहा कि यह कार्रवाई अभी जारी रहेगी.