रोहतक| भारत माता की जय नारा लगाने से इनकार करने वालों के खिलाफ पिछले साल दिए गए एक बयान को लेकर हरियाणा की एक अदालत ने योग गुरू रामदेव के खिलाफ गैर जमानती वॉरंट (एनबीडब्ल्यू) जारी किया. इससे पहले 12 मई को अदालत ने रामदेव के खिलाफ जमानती वारंट जारी किया था.Also Read - 2G Spectrum Case: कांग्रेस नेता सलमान खुर्शीद ने कहा, पीएम मोदी देश से माफी मांगें

अतिरिक्त मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट हरीश गोयल ने मामले में अगली सुनवाई की तारीख तीन अगस्त तय करते हुए रामदेव के खिलाफ एनबीडब्ल्यू जारी किया. Also Read - पूर्व मुंबई पुलिस कमिश्नर परम बीर सिंह के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी, जानिए क्या है विवाद

मामले में शिकायतकर्ता के वकील ओ.पी. चुग ने बताया कि आदेश के अनुसार रामदेव आज एक बार फिर अदालत में पेश होने में नाकाम रहे. कई समन और जमानती वॉरंट जारी करने के बावजूद वह पेश नहीं हुए. Also Read - IND vs PAK, T20 World Cup 2021: Baba Ramdev ने 'राष्ट्रधर्म के खिलाफ' बताया भारत-पाक मुकाबला, कहा- आतंक और मैच एक साथ नहीं हो सकते

ये है मामला

पिछले साल रोहतक में सद्भावना सम्मेलन में रामदेव ने टिप्पणी की थी कि यहां कानून का राज है नहीं तो वह भारत माता की जय का नारा नहीं लगाने वाले लाखों लोगों का सिर कलमे कर चुके होते.

रामदेव का यह बयान एआईएमआईएम के चीफ असदुद्दीन ओवैसी के उस बयान के बाद आया था जब उन्होंने कहा था कि वह ‘भारत माता की जय’ नहीं बोलेंगे. अगर उनकी गर्दन पर कोई चाकू रख दे, तब भी नहीं.