Northern Railway Collects 100 Crore Fine: भारतीय रेलवे (Indian Railways) पैसा कहां से कमाती है? इस प्रश्न का आसान से उत्तर है टिकट बेचकर और मालभाड़ा से. लेकिन रेलवे की कमाई का एक बड़ा स्रोत फाइन (Fine) भी है. जी हां, फाइन यानी जुर्माना. यह जुर्माना ऐसे यात्रियों से वसूला जाता है, जो बिना टिकट रेल (Ticketless Travellers) में यात्रा करते हैं. बिना टिकट यात्रा करने वालों की संख्या कितनी ज्यादा होती है इस बात का अंदाजा आप फाइन के रूप में वसूली गई रकम से लगा सकते हैं. उत्तर रेलवे ने अप्रैल 2021 से 5 दिसंबर 2021 तक यानी सिर्फ 8 महीने में ही 100 करोड़ से ज्यादा का जुर्माना वसूला है. बिना टिकट, गैरकानूनी तरीके से रेल की यात्रा करने वालों से निपटने के लिए उत्तर रेलवे (Northern Railways) ने कई रेलवे स्टेशनों और गाड़ियों में चेकिंग अभियान चलाया था और इसी दौरान यह वसूली हुई है.Also Read - Indian Railway Recruitment 2022: भारतीय रेलवे में इन पदों पर आई भर्ती, 10वीं पास अभ्यर्थी करें आवेदन

महाप्रबंधक, उत्तर रेलवे आशुतोष गंगल ने बताया कि 1 अप्रैल 2021 से 5 दिसंबर 2021 के बीच कई रेलवे स्टेशनों और रेल गाड़ियों में टिकट जांट के लिए सघन अभियान चलाया गया. इस दौरान बिना टिकट और अनधिकृत तौर पर यात्रा करने वालों से फाइन लिया गया. उन्होंने बताया कि टिकट जांच से प्राप्त जुर्माने की रकम 100 करोड़ से ज्यादा है. उन्होंने इस अभियान से जुड़े सभी कर्मचारियों के प्रयासों की सराहना की और कहा, उत्तर रेलवे बिना टिकट यात्रा करने वाले और अनधिकृत रूप से रेल यात्रा करने वालों के खिलाफ भविष्य में भी इस तरह की कार्रवाई जारी रखेगा. Also Read - India Railways/IRCTC: ट्रेन में यात्रा करते समय रात में की ये हरकत तो होगी कार्रवाई, जानिए रेलवे का नया नियम

देश में हर जोन में रेलवे इस तरह के अभियान चलाता रहता है. अप्रैल से नवंबर के बीच सेंट्रल रेलवे ने भी इसी तरह की कार्रवाई करके 100 करोड़ से ज्यादा का जुर्माना वसूला है. कोरोना प्रोटोकॉल के तहत मास्क न पहनने के चलते भी सेंट्रल रेलवे ने 23 हजार से ज्यादा यात्रियों पर जुर्माना लगाया और फाइन के रूप में 26 लाख रुपये की वसूली की. Also Read - Railway Recruitment 2022: रेलवे में इन पदों पर आवेदन की आखिरी तारीख नजदीक, जल्दी करें आवेदन

देश में अक्टूबर-नवंबर के महीनों में कई त्योहार आते हैं. इस दौरान लाख कोशिशों के बावजूद कई लोगों को टिकट नहीं मिल पाती, ऐसे में वह बिना टिकट ही रेलवे के सफर पर निकल जाते हैं. रेलवे के दिल्ली मंडल ने ऐसे 1.42 करोड़ यात्रियों को पकड़ा और उनसे 8.01 करोड़ रुपये के जुर्माने की वसूली की.

गौरतलब है कि भारतीय रेल में बिना टिकट यात्रा करते हुए पकड़े जाने पर कम से कम 250 रुपये से लेकर 1 हजार रुपये तक का जुर्माना वसूला जाता है. इसके अलावा इस तरह से अनधिकृत तौर पर यात्रा करते हुए पकड़े जाने पर जेल की सजा भी हो सकती है और दोनों भी एक साथ हो सकते हैं. इसके अलावा बिना टिकट यात्रा करने वाले यात्री से ट्रेन से शुरू होने वाले स्टेशन से लेकर अंतिम स्टेशन तक का किराया लिया जाता है, भले ही वह बीच के 1-2 स्टेशन की ही यात्रा कर रहा हो.

उत्तर रेलवे द्वारा साल दर साल बिना टिकट यात्रियों से वसूला गया जुर्माना

साल             वसूला गया जुर्माना

2018-19        62.77

2019-20       77.3014

2020-21     10065.14

(इनपुट – एजेंसियां)