एक भी टिकट नहीं बेचा, फिर भी उत्तरी रेलवे ने कमाए 100 करोड़; ऐसी गलती करने वाले लोग हैं कमाई के सोर्स

उत्तर रेलवे ने अप्रैल 2021 से 5 दिसंबर 2021 तक यानी सिर्फ 8 महीने में ही 100 करोड़ से ज्यादा का जुर्माना वसूला है. बिना टिकट, गैरकानूनी तरीके से रेल की यात्रा करने वालों से निपटने के लिए उत्तर रेलवे ने कई रेलवे स्टेशनों और गाड़ियों में चेकिंग अभियान चलाया था और इसी दौरान यह वसूली हुई है.

Advertisement

Northern Railway Collects 100 Crore Fine: भारतीय रेलवे (Indian Railways) पैसा कहां से कमाती है? इस प्रश्न का आसान से उत्तर है टिकट बेचकर और मालभाड़ा से. लेकिन रेलवे की कमाई का एक बड़ा स्रोत फाइन (Fine) भी है. जी हां, फाइन यानी जुर्माना. यह जुर्माना ऐसे यात्रियों से वसूला जाता है, जो बिना टिकट रेल (Ticketless Travellers) में यात्रा करते हैं. बिना टिकट यात्रा करने वालों की संख्या कितनी ज्यादा होती है इस बात का अंदाजा आप फाइन के रूप में वसूली गई रकम से लगा सकते हैं. उत्तर रेलवे ने अप्रैल 2021 से 5 दिसंबर 2021 तक यानी सिर्फ 8 महीने में ही 100 करोड़ से ज्यादा का जुर्माना वसूला है. बिना टिकट, गैरकानूनी तरीके से रेल की यात्रा करने वालों से निपटने के लिए उत्तर रेलवे (Northern Railways) ने कई रेलवे स्टेशनों और गाड़ियों में चेकिंग अभियान चलाया था और इसी दौरान यह वसूली हुई है.

Advertising
Advertising

महाप्रबंधक, उत्तर रेलवे आशुतोष गंगल ने बताया कि 1 अप्रैल 2021 से 5 दिसंबर 2021 के बीच कई रेलवे स्टेशनों और रेल गाड़ियों में टिकट जांट के लिए सघन अभियान चलाया गया. इस दौरान बिना टिकट और अनधिकृत तौर पर यात्रा करने वालों से फाइन लिया गया. उन्होंने बताया कि टिकट जांच से प्राप्त जुर्माने की रकम 100 करोड़ से ज्यादा है. उन्होंने इस अभियान से जुड़े सभी कर्मचारियों के प्रयासों की सराहना की और कहा, उत्तर रेलवे बिना टिकट यात्रा करने वाले और अनधिकृत रूप से रेल यात्रा करने वालों के खिलाफ भविष्य में भी इस तरह की कार्रवाई जारी रखेगा.

देश में हर जोन में रेलवे इस तरह के अभियान चलाता रहता है. अप्रैल से नवंबर के बीच सेंट्रल रेलवे ने भी इसी तरह की कार्रवाई करके 100 करोड़ से ज्यादा का जुर्माना वसूला है. कोरोना प्रोटोकॉल के तहत मास्क न पहनने के चलते भी सेंट्रल रेलवे ने 23 हजार से ज्यादा यात्रियों पर जुर्माना लगाया और फाइन के रूप में 26 लाख रुपये की वसूली की.

यह भी पढ़ें

अन्य खबरें

देश में अक्टूबर-नवंबर के महीनों में कई त्योहार आते हैं. इस दौरान लाख कोशिशों के बावजूद कई लोगों को टिकट नहीं मिल पाती, ऐसे में वह बिना टिकट ही रेलवे के सफर पर निकल जाते हैं. रेलवे के दिल्ली मंडल ने ऐसे 1.42 करोड़ यात्रियों को पकड़ा और उनसे 8.01 करोड़ रुपये के जुर्माने की वसूली की.

Advertisement

गौरतलब है कि भारतीय रेल में बिना टिकट यात्रा करते हुए पकड़े जाने पर कम से कम 250 रुपये से लेकर 1 हजार रुपये तक का जुर्माना वसूला जाता है. इसके अलावा इस तरह से अनधिकृत तौर पर यात्रा करते हुए पकड़े जाने पर जेल की सजा भी हो सकती है और दोनों भी एक साथ हो सकते हैं. इसके अलावा बिना टिकट यात्रा करने वाले यात्री से ट्रेन से शुरू होने वाले स्टेशन से लेकर अंतिम स्टेशन तक का किराया लिया जाता है, भले ही वह बीच के 1-2 स्टेशन की ही यात्रा कर रहा हो.

उत्तर रेलवे द्वारा साल दर साल बिना टिकट यात्रियों से वसूला गया जुर्माना

साल             वसूला गया जुर्माना

2018-19        62.77

2019-20       77.3014

2020-21     10065.14

(इनपुट - एजेंसियां)

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. India.Com पर विस्तार से पढ़ें मनोरंजन की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

Published Date:December 7, 2021 8:40 AM IST

Updated Date:December 7, 2021 8:40 AM IST

Topics