आज नोटबंदी का 35वाँ दिन है लेकिन स्थितियों जस की तस बनी हुई हैं। 3 दिन की छुट्टी के बाद आज बैंक खुल रहे हैं। बैंको के बाहर लोंगो ने सुबह से ही लाइन लगाना शुरू कर दिया है। 3 दिन की छुट्टियों में अधिकांश एटीएम भी कैश विहीन हो गए हैं। इसलिए आज लोग बैंकों के दरवाजे खड़े हो गए हैं। 30 दिसंबर की डेडलाइन में अब सिर्फ 50 दिन बचे हैं लेकिन लोगों की कैश की मुसीबतें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। Also Read - चलती ट्रेन से उड़ाए पांच सौ-हजार के पुराने नोट, बटोरने को दौड़ पड़ा पूरा गांव, सैकड़ों ने भर ली जेबें, फिर हुआ ये

Also Read - Arvind Kejriwal attacks on PM Narendra Modi after fake note dispence incident | ATM से निकले फर्जी नोट, केजरीवाल बोले- नोट ठीक से नहीं छाप सकता वो देश क्या चलाएगा

दिसंबर का शुरुआती हफ्ता बीत चुका है। लोगों को प्राथमिक जरूरतों के लिए नकदी की जरूरत है। इसलिए लोग काम छोड़कर बैंकों की लाइनों में डँट गए हैं। बच्चों की फीस, राशन, ट्रैवल्स हर जगह पैसे की जरूरत है। एटीएम के हालात काफी बुरे हैं। अधिकांश एटीएम खाली पड़े हैं। बाजार में कैश ट्रांजैक्शन में एक बड़ी दिक्कत लोगों के पास फुटकर पैसे की कमी भी है। लोग 2 हज़ार रुपए के नए नोट लेकर घूम रहे हैं लेकिन उन्हें छुट्टे देने वाला कोई नहीं। यह भी पढ़ेंः 2000 के नए नोट भी हो जाएंगें बंद Also Read - Fake note dispence in a SBI ATM, culprits identified | दिल्लीः एसबीआई बैंक के ATM से निकले 'चूरन वाले' नोट, दोषियों की पहचान हुई

बैंकों में बिना कैश की उपलब्धता सुनिश्चित किए हुए ही लोग सुबह से लाइन में खड़े हैं। अभी यह तय नहीं हो पाया कि बैंकों में नई नोट पहुँचेगी या नहीं। वीकेंड में भी बाज़ार में लोगों की भीड़ देखने को नहीं मिली। माना जा रहा है कि लोगों के पास नकदी की कमी से लोग खरीदारी करने से बच रहे हैं। इधर सरकार ने डि़जिटल ट्रांजैक्शन को बढ़ावा देते हुए आज घोषणा की है कि आज से पेट्रोल और डीजल के लिए डिजिटल ट्रांजैक्शन करने पर 0.75 प्रतिशत छूट मिलेगी।