नागपुर: नागपुर पुलिस ने शहर की एक स्थानीय अदालत द्वारा महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस (Devendra Fadnavis ) के नाम जारी सम्‍मन की गुरुवार को तामील की. यह घटनाक्रम ऐसे वक्त हुआ है, जब महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस गठबंधन ने सरकार बनाई है. फडणवीस नागपुर से विधायक हैं. Also Read - Palghar mob lynching case: कोर्ट ने गिरफ्तार 89 लोगों को जमानत दी, बताई ये वजह

पूर्व मुख्‍यमंत्री फडणवीस (former CM) द्वारा चुनावी हलफनामे (election affidavit) में अपने खिलाफ दो आपराधिक मुकदमों के बारे में सूचनाएं छिपाने के आरोप से जुड़ा मामला है. इसी मामले में सम्‍मन की तामील हुई है. सदर थाने के एक अधिकारी ने बताया कि यहां फडणवीस के घर पर समन की तामील की गई. Also Read - मुंबई में पति ने पत्‍नी को लोकल ट्रेन से दिया धक्‍का, नीचे गिरने पर हुई मौत, दो माह पहले की थी शादी

मजिस्ट्रेटी अदालत ने एक नवंबर को एक याचिका पर फिर से सुनवाई शुरू की थी, जिसमें बीजेपी नेता के खिलाफ सूचनाएं छिपाने के लिए आपराधिक कार्रवाई की मांग की गई थी. Also Read - प्‍लेबैक सिंगर के एक ट्वीट पर दिग्‍गज मंत्री का खुलासा, उसकी बहन से रिश्‍ते में रहा हूं, पैदा हुए बच्‍चों का 'प‍िता' भी हूं

शहर के वकील सतीश उके ने अदालत में एक याचिका दायर कर फडणवीस के खिलाफ आपराधिक कार्यवाही शुरू करने की मांग की थी.

बंबई हाईकोर्ट ने उके की याचिका खारिज करने के निचली अदालत के फैसले को बरकरार रखा था. लेकिन, सुप्रीम कोर्ट न्यायालय ने एक अक्टूबर को मजिस्ट्रेटी अदालत को उके द्वारा दी गई याचिका पर सुनवाई के लिए आगे बढ़ने का निर्देश दिया था.

फडणवीस के खिलाफ 1996 और 1998 में जालसाजी और धोखाधड़ी के मामले दर्ज किए गए थे, लेकिन दोनों मामले में आरोप नहीं तय किए गए थे. उके ने आरोप लगाया था कि फडणवीस ने अपने चुनावी हलफनामे में इस सूचना का खुलासा नहीं किया.