कोलकाता: ओडिशा के अधिकांश हिस्सों को तबाह करने वाले चक्रवात ‘फोनी’ से पश्चिम बंगाल को अब कोई खतरा नहीं है, क्योंकि यह पड़ोसी बांग्लादेश में प्रवेश करने से पहले और कमजोर हो चुका है. ओडिशा में शुक्रवार को इस चक्रवाती तूफान ने भारी तबाही मचायी थी, जिसमें 12 लोगों की जान चली गई. एक वरिष्ठ अधिकारी ने शनिवार को यह जानकारी दी.

यहां क्षेत्रीय मौसम विज्ञान केंद्र के उप महानिदेशक संजय बंद्योपाध्याय ने बताया कि पूर्वानुमान के अनुसार, राज्य में, विशेष रूप से बांग्लादेश से सटे जिलों में मध्यम बारिश होगी, लेकिन शहर और आसपास के क्षेत्र में मौसम की स्थिति दिन में सामान्य रहेगी. उन्होंने कहा, ‘‘इस प्रणाली (चक्रवात फोनी) से पश्चिम बंगाल को कोई खतरा नहीं है. पश्चिम बंगाल में प्रवेश करने से पहले यह भीषण चक्रवाती तूफान कमजोर हो गया था.’’

चक्रवात फोनी बांग्लादेश की ओर बढ़ा, बंगाल में बड़ा असर नहीं

बंद्योपाध्याय ने कहा, ‘‘फोनी का अभी और आगे बढ़ना जारी रहेगा और अगले छह घंटों में इसके और कमजोर पड़ने की संभावना है. इसके दोपहर तक बांग्लादेश की तरफ मुड़ने की भी संभावना है.’’ अधिकारी ने कहा कि कोलकाता से सटे जिलों में हल्की से मध्यम बारिश की संभावना है और शहर में दोपहर बाद तक आसमान साफ रहने की उम्मीद है. पश्चिम बंगाल सरकार ने चक्रवाती तूफान के मद्देनजर हावड़ा, हुगली, झारग्राम, कोलकाता और सुंदरवन के अलावा पूर्वी और पश्चिमी मिदनापुर, उत्तर और दक्षिण 24 परगना जिलों में शुक्रवार को एहतियाती कदम उठाए थे.