नई दिल्ली: रेलवे स्टेशनों के बाद अब भारतीय रेल की 200 से अधिक ट्रेनें  सबसे स्वच्छ ट्रेन का दर्जा पाने की होड़ में है. रेलवे की ओर से ट्रेनों पर किया जाने वाला यह अपनी तरह का पहला स्वच्छता सर्वेक्षण है. साल 2016 में रेलवे ने सरकार के स्वच्छ भारत अभियान के तहत देश के सभी स्टेशनों पर कुछ इसी तरह का सर्वेक्षण किया था. इन 210 ट्रेनों के 475 रैक का परीक्षण होने वाला है. इनमें से 386 रैक का पहले ही सर्वेक्षण किया जा चुका है. Also Read - Indian Railways का बड़ा तोहफा, दिवाली और छठ में इन राज्यों के लिए चलेगी शताब्दी ट्रेन, जानें बुकिंग डेट और रूट्स

एक अधिकारी ने बताया कि यह सर्वेक्षण आईआरसीटीसी द्वारा नियुक्त किसी तीसरे पक्ष से कराया जा रहा है. अधिकारी ने बताया, महत्वपूर्ण ट्रेनों की स्वच्छता पर इस तरह का स्वतंत्र सर्वेक्षण हर साल कराया जायेगा और इससे उनमें गौरव का भाव तथा जोनल रेलवे के बीच प्रतिस्पर्धा तथा डिपो के रख रखाव का भाव उत्पन्न होगा. कुछ महीनों में ट्रेनों का सर्वेक्षण पूरा होने की उम्मीद है. Also Read - सात महीने बाद फिर से गूंजी पहाड़ों की रानी की छुक-छुक, आपको सैर कराने को तैयार खड़ी है

सर्वेक्षण के तहत ट्रेनों के आकलन में बोर्ड की सुविधा , शौचालयों की स्थिति, यंत्र, उपकरण, मानवश्रम, गलियारे, दरवाजे, डस्टबिन (कचरा रखने का डब्बा), लिनेन, पेस्ट मैनेजमेंट, कचरा प्रबंधन की व्यवस्था, पानी की सुविधा, चलती ट्रेन में हाउसकिपिंग कर्मचारी जैसी सुविधाएं शामिल है. Also Read - Indian Railway Bags on wheels Service: ट्रेन का सफर करना हुआ आसान, क्योंकि घर से स्टेशन तक लगेज पहुंचाएगी रेलवे