कोयंबटूर: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हत्या की कथित साजिश रचने का दावा करने वाले व्यक्ति की जांच कर रही पुलिस ने सोमवार को कहा कि जांच में सामने आया है कि सांप्रदायिक तनाव पैदा करने के लिए वाकई ऐसी साजिश थी और ऐसे में अब उस पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) लगाया जाएगा. पुलिस ने बताया कि शहर के पुलिस आयुक्त के पेरैया ने मोहम्मद रफीक को रासुका के तहत हिरासत में लेने के आदेश पर हस्ताक्षर किए और यह आदेश मंगलवार को उसे तामील किया जाएगा. उसे पिछले महीने गिरफ्तार किया गया था.

मामले की विस्तृत जांच के दौरान रफीक के मकान की तलाशी के बाद रासुका लगाने का फैसला किया गया. रफीक 1998 के बम विस्फोट कांड में अभियुक्त था जिसने जेल की सजा काटी थी. पुलिस के अनुसार जांच में पता चला कि मोदी को निशाने पर लेकर सांप्रदायिक तनाव पैदा करने की साजिश थी.

रफीक (53) को 23 अप्रैल को गिरफ्तार किया गया था और न्यायिक हिरासत में भेजा गया था. उससे पहले सोशल मीडिया पर एक बातचीत आई थी जिसमें रफीक को टेलीफोन पर यह कहते हुए सुना गया कि वह मोदी की हत्या की साजिश रच रहा है.

(इनपुट: एजेंसी)