नई दिल्ली: कांग्रेस की छात्र इकाई एनएसयूआई के अध्यक्ष फिरोज खान ने यौन शोषण के आरोपों में घिरने के बाद पद से इस्तीफा दे दिया है. सूत्रों का कहना है कि खान ने सोमवार को ही इस्तीफा सौंपा. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने उनका इस्तीफा स्वीकार कर लिया. खान ने जून 2017 में एनएसयूआई अध्यक्ष का कार्यभार संभाला था. जम्मू-कश्मीर से ताल्लुक रखने वाले खान पर छत्तीसगढ़ की एक लड़की ने इस साल जून में यौन शोषण का आरोप लगाया था. आरोप लगाने वाली लड़की एनएसयूआई से जुड़ी हुई है.

खान पर आरोप लगने के बाद पार्टी ने तीन सदस्यीय जांच समिति का गठन किया था. समिति ने रिपोर्ट तैयार कर ली थी और जल्द ही सौंपने वाली थी. लड़की ने खान के खिलाफ आरोप लगाते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के कार्यालय में शिकायत करने के साथ ही पार्टी के कुछ वरिष्ठ नेताओं से भी मुलाकात थी. उधर, खान ने अपने ऊपर लगे आरोप को गलत करार दिया और कहा कि उन्होंने पार्टी की छवि की खातिर इस्तीफा दिया है. उन्होंने कहा, ‘‘मैंने सोमवार को ही इस्तीफा दे दिया है. मैं आज भी इस बात पर कायम हूं कि मुझ पर लगे आरोप गलत हैं. मैं अदालत जाऊंगा. मैंने पार्टी की छवि की खातिर इस्तीफा दिया है.

कानून और मानवाधिकार की पढ़ाई करने वाले खान ने अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत बतौर RTI एक्टिविस्ट की थी. उन्हें जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में NSUI को खड़ा करने का श्रेय दिया जाता है. इससे पहले फिरोज कार्यकारी राष्ट्रीय सचिव के तौर पर काम करते आए हैं. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने #MeToo कैंपेन का समर्थन किया था. राहुल ने ट्वीट किया था. अब वक्त आ गया है कि सभी लोग महिलाओं के साथ इज्जत और सम्मान के साथ पेश आना सीख लें, मुझे खुशी है कि जो ऐसा नहीं कर रहे हैं उनके लिए दायरा खत्म होता जा रहा है, सच्चाई को जोर से और स्पष्ट शब्दों में कहा जाना चाहिए ताकि बदलाव लाया जा सके.