नई दिल्ली। सर्दी से पहले दिल्ली और एनसीआर की हवा की गुणवत्ता खराबा होती जा रही है इसलिए दिल्ली सरकार ने कहा है कि वह राजधानी में ऑड-इवेन (सम-विषम) योजना को फिर से लागू कर सकती है. दिल्ली परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने बुधवार को लिखे एक पत्र में दिल्ली ट्रांसपोर्ट कॉरपोरेशन (डीटीसी) को विषम-सम योजना के कार्यान्वयन के लिए तैयार रहने के निर्देश दिए. इस योजना के अंतर्गत विषम नंबर से पंजीकृत निजी वाहन विषम दिनांक वाले दिन चलेंगी और सम नंबर वाले वाहन सम दिनांक वाले दिन चलेंगी.Also Read - Lockdown In Delhi? दिल्ली में लॉकडाउन लगेगा, Omicron के खतरे पर स्वास्थ्य मंत्री ने दिया ये जवाब

सप्ताहांत और सार्वजनिक छुट्टियों के दिन यह योजना लागू नहीं होगी. मंत्री ने डीटीसी को बसों/कंडक्टर का प्रबंध करने के लिए भी कार्य योजना तैयार करने और उसको सात दिन के भीतर जमा करने का निर्देश दिया. पत्र में लिखा गया, “दिल्ली में प्रदूषण के बढ़ते स्तर के कारण सरकार को विषम-सम योजना समेत कई आपातकालीन उपायों को लागू करना पड़ सकता है.” Also Read - दिल्ली में मिला 'Omicron' संक्रमित मरीज तो सीएम केजरीवाल ने की अपील, कहा-घबराने की जरूरत नहीं लेकिन...

Jab hogi to hogi, I believe in destiny: Rahul Gandhi on being asked when will he get married | राहुल गांधी से पूछा कब करोगे शादी, मिला ये जवाब!

Jab hogi to hogi, I believe in destiny: Rahul Gandhi on being asked when will he get married | राहुल गांधी से पूछा कब करोगे शादी, मिला ये जवाब!

पत्र में आगे लिखा गया, “इसलिए, यह आवश्यक है कि परिवहन विभाग/ डीटीसी/ डीआईएमटीएस इस योजना की घोषणा के वक्त इसके कार्यान्वयन के लिए पूरी तरह तैयार रहें. Also Read - अरविंद केजरीवाल ने कहा- पंजाब के CM मुझे गाली दे रहे हैं, मेरा रंग काला, लेकिन नीयत साफ है

वाहनों की पंजीकरण संख्या के आखिरी अंक पर आधारित यह योजना वर्ष 2016 में दो बार- एक जनवरी से 15 जनवरी और फिर 15 अप्रैल से 30 अप्रैल तक लागू की गई थी. इस योजना के तहत सम और विषम संख्या वाले वाहन सम विषम तारीखों वाले दिनों में सड़कों पर चलते हैं. वायु प्रदूषण स्तर के 48 घंटे या इससे अधिक समय के लिए आपात श्रेणी में रहने पर इसे लागू किया जा सकता है.