फुलबनी (ओडिशा): ओड़िशा में कंधमाल जिले के एक आदिवासी आवासीय विद्यालय के छात्रावास में 14 वर्षीय एक किशोरी से जन्मे नवजात शिशु की मौत हो गई है. जिले में दारिंगीबाड़ी के सेवाश्रम हाईस्कूल में कक्षा आठ की इस छात्रा ने शनिवार रात को बच्चे को जन्म दिया था. स्टूडेंट प्रेग्नेंट होने की हालत में हॉस्टल में रहती रही, लेकिन किसी को भी इसकी भनक नहीं लगी थी. उसने एक दिन पहले ही हॉस्टल में ही बच्चे को जन्म दिया. इसके बाद उसे असपताल में भर्ती कराया गया था. पता लगाया जा रहा है कि छात्रा की ये हालत किसने की थी. घटना से राज्य में हड़कंप मचा हुआ है. परिजनों ने चक्का जाम किया. एससी/एसटी कमीशन ने भी मामले को संज्ञान में लिया है.

गर्ल्स हॉस्टल में मां बनी 8वीं क्लास की स्टूडेंट, किसी को नहीं लगी प्रेग्नेंसी की भनक, हड़कंप

सोमवार को ओड़िशा सरकार ने विद्यालय की प्रधानाध्यापिका राधारानी दालेई और तीन सहायक अधीक्षकों को इस घटना के सिलसिले में निलंबित कर दिया. पुलिस विद्यालय के छह कर्मचारियों से पूछताछ कर रही है. सरकार ने मामले को संज्ञान में लिया है. कंधमाल की जिला कल्याण अधिकारी चारूलता मलिक ने बताया कि किशोरी और नवजात को इससे पहले जिले के बालीगुडा उपखंड के अस्पताल में भर्ती कराया गया था. राज्य के अनुसूचित एवं अनुसूचित जनजाति विकास मंत्री रमेश मांझी ने कहा कि जिला अधिकारी से उन परिस्थितियों के बारे में विस्तृत रिपोर्ट सौंपने को कहा गया जिसके तहत लड़की गर्भवती बनी तथा उसने बच्चे को जन्म दिया. उन्होंने कहा कि राज्य के अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (एसटी एवं एससी) विभाग द्वारा चलाये जा रहे इस हाईस्कूल के कर्मचारियों को निलंबित कर कड़ी कार्रवाई की गई है.

मांझी ने कहा कि विद्यार्थियों विशेषकर लड़कियों की सुरक्षा के उपाय के तहत राज्य के स्कूली छात्रावासों में सीसीटीवी कैमरा लगाने का निर्णय किया गया है. सोमवार को राज्य महिला कांग्रेस के एक प्रतिनिधिमंडल ने बेहरमपुर अस्पताल में इस किशोरी से मुलाकात की. राज्य महिला कांग्रेस की अध्यक्ष सुमित्रा जैना ने एससी एवं एसटी विकास मंत्री के इस्तीफे की मांग की. उन्होंने कहा कि किशोरी बुरी तरह से सदमे में हैं और ठीक से बोल पाने की भी स्थिति में नहीं है. उन्होंने इस घटना को शर्मनाक करार देते हुए कहा कि इससे साबित होता है कि बीजद सरकार लड़कियों एवं महिलाओं खासकर आदिवासियों को सुरक्षा प्रदान करने में बुरी तरह विफल रही है.

सीनियर डॉक्टर ने ऑपरेशन थिएटर में नर्स को किया Kiss, वायरल हुए इस वीडियो ने मचाया बवाल

इस घटना को लेकर राज्य सरकार पर बरसते हुए भाजपा नेता एवं केन्द्रीय मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान ने कहा कि राजनीतिक इच्छाशक्ति के अभाव और पुलिस की निष्क्रियता के चलते महिलाओं एवं किशोरियों का यौन शोषण ओड़िशा में बढ़ रहा है. रविवार को इस घटना की खबर फैलने के साथ ही स्थानीय लोग बड़ी संख्या में एकत्र हो गये. उन्होंने दोषी की फौरन गिरफ्तारी तथा स्कूली अधिकारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग को लेकर राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 59 को जाम कर दिया. उच्चाधिकारियों द्वारा कार्रवाई का आश्वासन दिये जाने के बाद स्थानीय लोगों ने नाकेबंदी हटा ली.