बारीपदा: ओडिशा के मयूरभंज जिले में एक गर्भवती महिला को एक अस्पताल से दूसरे अस्पताल लेकर जा रहे एंबुलेंस का पेट्रोल रास्ते में खत्म हो गया जिस कारण मरीज की रास्ते में ही मौत हो गई. अधिकारियों ने शनिवार को बताया कि 23 वर्षीय गर्भवती आदिवासी महिला को बांगिरिपोसी के सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया था. सूत्रों ने बताया कि तुलसी मुंडा की तबीयत ज्यादा बिगड़ने पर डॉक्टरों ने उसे बारीपदा के दूसरे अस्पताल में रेफर कर दिया.

नवजात शिशु को मंदिर के बाहर फेंकने पर डॉक्टर संग नर्स गिरफ्तार

तुलसी के पति चितरंजन मुंडा ने बताया, ‘‘कुलियाना के पास एंबुलेंस का पेट्रोल खत्म हो गया. दूसरे वाहन का इंतजाम कर उसे अस्पताल ले जाने के लिए हमें एक घंटे से भी ज्यादा देर इंतजार करना पड़ा.’’ उन्होंने बताया कि तुलसी के साथ आशा कार्यकर्ता थी लेकिन उन हालात में वह भी मजबूर थी. चितरंजन ने बताया, ‘‘अंतत: दूसरे एंबुलेंस का जुगाड़ हुआ और तुलसी को बारीपदा के अस्पताल ले जाया गया. लेकिन जब तक वह अस्पताल पहंची उसकी मौत हो चुकी थी.’’

मयूरभंज जिले के मख्य चिकित्साधिकारी (सीडीएमओ) पी के महापात्र ने स्वीकार किया है कि पेट्रोल कम होने के कारण एंबुलेंस गंतव्य पर नहीं पहुंच सका. सीडीएमओ ने दावा किया है कि बारीपदा के लिए रवाना होते समय उसमें पूरा पेट्रोल था लेकिन तेल की पाइप में लीक होने के कारण ऐसा हुआ. उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन मामले की जांच करेगा.