नई दिल्ली: लाभ का पद के चलते चुनाव आयाग की सिफारिश पर विधानसभा की सदस्यता के अयोग्य ठहराए गए आप के 20 सदस्यों ने चुनाव आयोग के खिलाफ दिल्ली हाईकोर्ट में पहले से दायर की गई अपनी याचिका वापस ले ली है.Also Read - मुख्यमंत्री केजरीवाल ने की किसानों के नुकसान पर मुआवजे की घोषणा, जानें प्रति हेक्टेयर कितने रुपये मिलेंगे

याचिका वापस लेने की ये है वजह
आम आदमी पार्टी के विधायकों ने लाभ का पद रखने के लिए अपने खिलाफ की गई शिकायत पर सुनवाई जारी रखने के चुनाव आयोग के फैसले को पिछले साल अगस्त में चुनौती दी थी. विधायकों ने कहा था कि जब हाईकोर्ट संसदीय सचिवों के तौर पर उनकी नियुक्तियां रद्द कर चुका है, तो चुनाव आयोग के मामले में सुनवाई की कोई जरूरत नहीं है. Also Read - NRI के अकाउंट से बड़ी रकम उड़ाने की कोशिश, HDFC के तीन बैंककर्मियों समेत 12 लोग अरेस्‍ट

वृहद पीठ के समक्ष दायर है एक अन्‍य याचिका
विधायकों ने जस्टिस रेखा पल्ली के समक्ष कहा कि वे पूर्व में दायर अपनी याचका वापस लेने जा रहे हैं, क्योंकि उन्होंने हाईकोर्ट की एक वृहद पीठ के सामने अपनी अयोग्यता को चुनौती दी है. Also Read - 60 हजार रुपये में बेची गई दिल्ली की नाबालिग लड़की, साले से शादी कराना चाहता था राजस्थान का गोपाल लेकिन....

दूसरे पक्ष से किसी तरह का विरोध ना होने पर अदालत ने चुनाव आयोग के 23 जून, 2017 के फैसले को चुनौती देने वाली विधायकों की याचिका ‘वापस ली हुई मानकर खारिज’ कर दी. प्रशांत पटेल नाम के एक व्यक्ति ने आप के 21 विधायकों के खिलाफ चुनाव आयोग में लाभ के पद से जुड़ी याचिका दायर की थी. (इनपुट एजेंसी)