लखनऊ। हिंदू मुस्लिम दंपती पासपोर्ट विवाद में नया मोड़ आ गया है. आरोपी अफसर ने इस मामले में अपनी सफाई दी है. विकाश मिश्रा ने कहा, मैंने तन्वी सेठ से शादिया अनस नाम का इस्तेमाल करने को कहा था जो उनके निकाहनामा में लिखा हुआ है. लेकिन उन्होंने इनकार कर दिया. हमें ये निश्चित करना होता है कि कोई भी शख्स किसी दूसरे नाम से अपना पासपोर्ट ना बनवा ले.Also Read - ‘जब अकबरुद्दीन ने सुषमा स्वराज से बोरिस जॉनसन से फोन पर बात न करने को कहा था’

Also Read - ममता बनर्जी ने विधानसभा में कहा- मैंने राजनाथ सिंह और सुषमा स्वराज जैसे BJP नेताओं को देखा है, लेकिन...

Also Read - पाकिस्‍तान से भारत लौटी गीता को आखिर महाराष्ट्र में मिली उसकी असली मां

अनस-तन्वी का अधिकारी पर आरोप 

बता दें कि विकास मिश्रा पर आरोप है कि उन्होंने मोहम्मद अनस और उनकी पत्नी तन्वी सेठ के पासपोर्ट का नवीनीकरण कराने में धर्म के नाम पर अड़ंगा लगाया. तन्वी और अनस ने अपनी शिकायत में कहा कि विकास मिश्रा उनसे अपना धर्म और नाम बदलने को कह रहे थे. तन्वी का कहना है कि वह इतनी ऊंची आवाज में अपनी बात कह रहे थे कि ऑफिस में बाकी लोग भी सुन रहे थे. वह हाथ उठाकर आक्रामक अंदाज में बात कर रहे थे. इससे मैं और मेरे पति बुरी तरह घबरा गए और अपमानित भी महसूस किया.

हिंदू-मुस्लिम दंपती का आरोप, पासपोर्ट अधिकारी ने किया अपमानित, हिन्‍दू धर्म अपनाने को कहा

हालांकि, विवाद सामने आने के बाद दोनों के पासपोर्ट जारी कर दिए गए. क्षेत्रीय पासपोर्ट अधिकारी पीयूष वर्मा ने कहा कि दंपती को पासपोर्ट जारी कर दिये गये हैं. उन्होंने घटना पर खेद प्रकट करते हुए कहा कि आरोपी अधिकारी को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है. जांच करके आगे की कार्रवाई भी की जाएगी.

अनस से हिंदू धर्म अपनाने को कहा

मोहम्मद अनस और उनकी पत्नी तन्वी सेठ का कहना है कि वे कल (बुधवार को) पासपोर्ट का नवीनीकरण कराने के लिए पासपोर्ट कार्यालय गये थे. दंपती का आरोप है कि पासपोर्ट अधिकारी विकास मिश्रा ने अनस से कहा कि वह हिंदू धर्म अपना लें. साथ ही उन्होंने तन्वी से सभी दस्तावेजों में अपना नाम बदलने का निर्देश दिया. उन्होंने आरोप लगाया कि जब दोनों ने ऐसा करने से इन्कार कर दिया तो अधिकारी उन पर चिल्लाने लगा. घटना के बाद दंपती घर लौट आए और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को ट्वीट कर पूरे घटनाक्रम की जानकारी दी.

2007 में हुई थी शादी 

अनस और तन्वी ने 2007 में शादी की थी. उनकी छह साल की एक बेटी भी है और दोनों नोएडा की एक निजी कंपनी में काम करते हैं. अनस ने बताया कि तनवी और उन्होंने 19 जून को पासपोर्ट के लिए आवेदन किया था और लखनऊ में पासपोर्ट सेवा केंद्र में उन्हें बुधवार को बुलाया गया था. अनस ने दावा किया कि विकास मिश्रा ने उन्हें बुलाया और उनका अपमान करना शुरू कर दिया. उनसे कहा कि वह हिंदू धर्म अपना लें वरना विवाह स्वीकार नहीं किया जाएगा. मिश्रा ने उनसे कहा कि उन्हें हिंदू रीति-रिवाज से शादी करनी होगी.