बेंगलुरू, 1 अक्टूबर –  गांधी जयंती पर दो अक्टूबर को ‘स्वच्छ भारत दिवस’ के मद्देनजर निजी परिवहन के लिए लोकप्रिय मोबाइल एप ओला ने शुक्रवार को अपने प्लेटफॉर्म पर मौजूद ड्राइवरों के लिए ‘स्वच्छ कार अभियान’ लांच करने की घोषणा की। इस पहल के बारे में ओला के चीफ ऑपरेटिंग आफिसर प्रणय जिवराजका ने बताया, “हम देश में स्वच्छता का संदेश प्रसारित करना चाहते हैं और हमें विश्वास है कि ड्राइवर एवं उपभोक्ता पूरे उत्साह के साथ हमारे इस अभियान में हिस्सा लेंगे।” यह भी पढ़ें- सावधान! अब मुंबई की OLA कैब भी महिलाओं के लिए सुरक्षित नहीं Also Read - Weather Today: उत्तर और मध्य भारत के कुछ हिस्सों में पड़ने वाली है कड़ाके की सर्दी, जानिए कब मिलेगी राहत?

Also Read - पाकिस्तान के संघर्ष विराम उल्लंघन में घायल भारतीय जवान शहीद

ओला प्लेटफॉर्म पर कैब, ऑटो-रिक्शा एवं टैक्सियों के हजारों ड्राइवर उन लाखों उपभोक्ताओं को अपनी सेवाएं उपलब्ध कराते हैं जो ओला एप पर राइड के लिए अनुरोध करते हैं। यह पहल ड्राइवरों एवं उपभोक्ताओं को स्वच्छ भारत में अपना योगदान देने के लिए प्रोत्साहित करेगी। ड्राइवर समुदाय में सफाई को बढ़ावा देने के लिए ओला ने यह पहल की है। सबसे पहले इसका आयोजन देश के चार बड़े शहरों दिल्ली-एनसीआर, बैंगलोर, मुम्बई और कोलकाता में किया जाएगा। Also Read - लद्दाख गतिरोध: चीन ने फिर दिखाया रंग, बातचीत के बीच LAC पर चुपचाप बढ़ा दिया सैन्य जमावड़ा

ओला के स्वच्छ कार अभियान का आयोजन चार चरणों में किया जाएगा, जिसके तहत ड्राइवर साझेदारों को सफाई के लिए प्रोत्साहित एवं पुरस्कृत किया जाएगा तथा उपभोक्ताओं को सफाई पर अपनी प्रतिक्रिया देने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा।

ओला उन ड्राइवरों को पहचान कर पुरस्कृत करेगी, जिन्हें स्वच्छ कार अम्बेसडर के रूप में सफाई के लिए लगातार सकारात्मक फीडबैक मिलेगा। सभी ड्राइवरों को अपनी कैब की सफाई रखने में मदद करने के लिए ओला ड्राइवरों को स्वच्छ कार किट्स उपलब्ध कराएगी तथा इन शहरों के साझेदार केन्द्रों में कार की नि:शुल्क सफाई की सुविधा भी उपलब्ध कराई जाएगी।

सफाई के महत्व को समझते हुए ड्राइवर के लिए उपभोक्ता के द्वारा दिए गए फीडबैक के आधार पर ड्राइवर को प्रोत्साहन के लिए अंक दिए जाएंगे। ओला बड़ी साझेदारियों के माध्यम से स्वच्छ भारत का संदेश प्रसारित करने के लिए काम करेगी तथा बड़े पैमाने पर इसकी गुणवत्ता के ऑडिट के लिए प्रोद्यौगिकी का इस्तेमाल भी किया जाएगा।