आज से 500-1000 के नोट बंद हो जाने की ख़बर के बाद पूरे देश में अफरा तफरी मच गई। लोग इस नोट बंद की वजह से कई तरह की समस्याओं का सामना कर रहे हैं, लेकिन इस बीच एक बड़ी ख़बर आई है कि नोट बंद से सदमे में आकर एक बुज़ुर्ग महिला की गुरुवार को मौत हो गई। ये महिला मज़दूरी का काम करती थी, और बैंक में पैसे जमा करवाने आई थी। मुमकिन है महिला को आज बैंक बंद होने की जानकारी नहीं थी।

ये चौंकाने वाली ख़बर कुशीनगर से आई है। कुशीनगर ज़िले के कप्तानगंज इलाके में कथित रूप से 500 और 1000 के नोट बंद होने की सूचना पर सेंट्रल बैंक के सामने एक बुजुर्ग महिला तीर्थराजी देवी की सदमे से मौत हो गई। बताया जा रहा है कि नोट बंद होने के बाद जब वो बैंक में पैसे जमा करवाने पहुंची तो वहां उसे बैंक में ताला लगा हआ मिला। उसे पहले ही ये पता चला था कि नोट बंद हुआ है, और जब उसने बैंक बंद देखा तो उसे बहुत सदमा पहुंचा।

ख़बरों के मुताबिक तीर्थराजी देवी मजदूरी करती थी। उसका पति रामप्रसाद लोगों के कपड़े धोकर घर चलाता है। ज़ाहिर है, दोनों आर्थिक रूप से ज्यादा मज़बूत नहीं थे। बताया जा रहा है कि तीर्थराजी देवी ने 4 हज़ार रुपये बचत की थी। ये 4 हज़ार रुपये 1000 के नोट की शक्ल में थे। उन्हें नहीं मालूम था कि आधी रात के बाद से ही 500 और 1000 के नोट पर सरकार ने बैन लगा दिया है। साथ ही, इसकी भी जानकारी नहीं थी कि आज बैंक बंद रहेंगे।

प्रत्यक्षदर्शियों का पहना है कि बैंक बंद मिलने के बाद तीर्थराजी देवी ने पास की चाय की दुकान पर 500 और 1000 के नोट बंद किए जाने की बात सुनी। उन्हें लगा कि उनकी बचत अब बर्बाद हो चुकी है। सदमे में आई बुज़ुर्ग महिला को उसी वक्त चक्कर आ गया और वो गिर पड़ी। घटनास्थल पर ही उनकी मौत हो गई। लोगों ने पुलिस और घरवालों को इसकी सूचना दी।

हालांकि इलाके के एसओ चौथी राम यादव ने कहा है कि ये अब तक साफ नहीं हुआ है कि महिला की मौत सदमे की वजह से हुई है। फिलहाल शव का पोस्टमार्टम करवाया जाएगा।