Om-Prakash-Chautala1

नई दिल्ली, 5 मार्च: दिल्ली उच्च न्यायालय ने हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री ओम प्रकाश चौटाला और उनके बेटे अजय चौटाला को राज्य में 2,000 शिक्षकों की अवैध नियुक्ति के मामले में गुरुवार को 10 साल जेल की सजा सुनाई। न्यायमूर्ति सिद्धार्थ मृदुल ने कहा कि ओम प्रकाश चौटाला उस दौरान हरियाणा के मुख्यमंत्री थे और इस नाते घोटाले के लिए ज्यादा जिम्मेदार हैं।

न्यायालय ने चौटाला तथा उनके बेटे को सजा सुनाने वाली निचली अदालत के फैसले को चुनौती देने वाली उनकी सभी 55 अपीलों को भी खारिज कर दिया। केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की विशेष अदालत ने यहां 22 जनवरी, 2013 को रालोद प्रमुख ओम प्रकाश चौटाला, उनके बेटे अजय चौटाला और आठ अन्य को 10 वर्ष जेल की सजा सुनाई थी। मामले में एक दोषी को पांच वर्ष की जेल, जबकि 45 अन्य को चार वर्ष जेल की सजा सुनाई थी। ये भी पढ़ें: मोदी ने हरियाणा में ‘सुकन्या समृद्धि योजना’ शुरू की

हरियाणा में वर्ष 2000 में ओम प्रकाश चौटाला और अन्य आरोपियों को 3,206 जूनियर बेसिक प्रशिक्षित शिक्षकों की अवैध नियुक्ति का दोषी पाया गया था। उस वक्त ओम प्रकाश चौटाला हरियाणा के मुख्यमंत्री थे।