श्रीनगर. नेशनल कॉन्फ्रेंस नेता उमर अब्दुल्ला ने बीजेपी-पीडीपी गठबंधन टूटन के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस की. उन्होंने कहा, हमारी पार्टी को 2014 में सरकार बनाने का बहुमत नहीं मिला. साल 2018 में भी हम सरकार बनाने की स्थिति में नहीं है. न हमें किसी ने अप्रोच किया है औ न ही हम किसी को अप्रोच करने जा रहे हैं. गवर्नर के बुलाने पर हम राजभवन गए थे और हमने गवर्नर से कहा है कि किसी के पास सरकार बनाने का बहुमत नहीं है. ऐसे में गवर्नर रूल लागू करना होगा. इसके साथ ही राज्य के जो सियासी हालात खराब हुए हैं उसे ठीक करना होगा.

अब्दुल्ला ने कहा, हमने गुजारिश की है गवर्नर से कि ज्यादा दिन गवर्नर रूल नहीं होना चाहिए. उन्हें जल्द से जल्द चुनाव कराना चाहिए, जिससे जनता अपनी सरकार बना सके. उमर अब्दुल्ला ने कहा कि बेहतर होता कि पैरों के नीचे से कालीन खींच लेने के बजाय महबूबा मुफ्ती की गरिमापूर्ण विदाई होती

बता दें कि जम्मू कश्मीर में तीन साल पुरानी बीजेपी-पीडीपी गठबंधन सरकार मंगवलवार को टूट गया. बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के साथ जम्मू कश्मीर सरकार के बीजेपी मंत्रियों और वरिष्ठ नेताओं की बैठक के बाद महासचिव राम माधव ने इसका ऐलान किया. उन्होंने समर्थन वापस लेने की कई वजहें गिनाईं जिसमें सबसे बड़ी वजह थी घाटी में लगातार बिगड़ते हालात.