श्रीनगर. नेशनल कान्फ्रेंस के उपाध्यक्ष उमर अब्दुल्ला ने पीडीपी-\भाजपा गठबंधन के टूटने को ‘पहले से तय शानदार मैच’ करार दिया. उन्होंने कहा, दोनों दलों ने बॉलीवुड से सीख लेकर ‘पूरी सटीकता के साथ अपने तलाक की पटकथा’ रची. उमर ने 1977 में आई राजनीतिक व्यंग्य फिल्म ‘किस्सा कुर्सी का’ की एक क्लिप साझा करते हुए ट्वीट किया, ‘‘पीडीपी और भाजपा राजनीतिक रणनीति के लिए बॉलीवुड फिल्में देखती रही हैं. उसी के आधार पर उन्होंने राजनीतिक तलाक की कहानी रची. पहले से तय शानदार मैच, सटीकता से तैयार पटकथा है यह, लेकिन देश बेवकूफ नहीं है और न ही हम.’’

पूर्व मुख्यमंत्री ने यह कहते हुए राज्य विधानसभा को तत्काल भंग करने की भी मांग की कि इसे निलंबित रखने से दलालों को बढ़ावा मिलेगा. उन्होंने लिखा, ‘‘तब विधानसभा क्यों नहीं भंग की गयी? यदि राम माधव अपने बयान पर सच्चे हैं कि विधायकों की खरीद-फरोख्त का सवाल ही नहीं है और स्पष्ट तौर पर कोई गठबंधन नहीं हो रहा है तो विधानसभा भंग कर दी जानी चाहिए. इसे निलंबित रखने से दलालों को बढ़ावा मिला है.’’ वह भाजपा महासचिव राम माधव की उन टिप्पणियों पर प्रतिक्रिया दे रहे थे कि खरीद-फरोख्त का सवाल ही नहीं है.

डरे हुए क्यों हैं अब्दुल्ला
माधव ने कहा था, ‘‘वह (उमर अब्दुल्ला) इतने डरे हुए क्यों हैं? मुझे यकीन है कि उनकी पार्टी के लोग उनके प्रति निष्ठावान हैं. हमारी ओर से विधायकों की खरीद-फरोख्त का सवाल ही नहीं है. हमने देखा है कि उनकी पार्टी के तहत जम्मू कश्मीर में किस प्रकार विधायकों की खरीद-फरोख्त हुई है, किसी को इतिहास नहीं भूलना चाहिए.’’

विधायकों की निष्ठा पर संदेह नहीं
उमर ने कहा कि उन्हें अपने विधायकों की निष्ठा पर कोई संदेह नहीं है. उन्होंने कहा, ‘‘हम सभी जानते हैं कि मुफ्ती साहब (पूर्व मुख्यमंत्री मुफ्ती मोहम्मद सईद) के निधन के बाद पीडीपी में क्या हुआ और महबूबा मुफ्ती पर किस प्रकार का दबाव डाला गया.’’