Omicron in India: ऑस्ट्रेलिया में बच्चों को Pfizer की वैक्सीन लगेगी, भारत में भी Covaxin को आज मिलेगी मंजूरी?

ऑस्ट्रेलिया में अपने देश में बच्चों को Pfizer की वैक्सीन लगाने की इजाजत दे दी है, वहीं भारत में Covaxin को सुरक्षित बताया गया है और टीकाकरण के लिए इसे अप्रूव करने की वकालत की गई है. तो क्या आज बच्चों के वैक्सीन को मिलेगी मंजूरी....

Advertisement

Omicron in India: कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रोन के खौफ के बीच बच्चों की वैक्सीन को लेकर भी जल्द फैसला लिया जा सकता है. बता दें कि आस्ट्रेलिया में अब 5-11 वर्ष की उम्र के बच्चों को कोरोना वैक्सीन लगाई जाएंगी.  दरअसल देश के दवा नियामकों ने रविवार को बच्चों के लिए फाइजर वैक्सीन को मंजूरी दे दी है. आस्ट्रेलिया के स्वास्थ्य मंत्री ने कहा है कि यह प्रक्रिया 10 जनवरी से शुरू होगी. वहीं भारत में भी बच्चों की कोरोना वैक्सीन को लेकर कोवैक्सीन की डोज जल्द लगाने की वकालत शुरू हो गई है.

Advertising
Advertising

ऑस्ट्रेलिया के स्वास्थ्य मंत्री ग्रेग हंट ने बच्चों की वैक्सीन को लेकर कहा कि, 'उन्होंने  सावधानी और सतर्कता के साथ इसका पूरा निरीक्षण किया और बच्चों के लिए फाइजर की कोरोना वैक्सीन को सुरक्षित और प्रभावी बताया है.'

आज मिल सकती है बच्चों की वैक्सीन को परमिशन

यह भी पढ़ें

अन्य खबरें

बता दें कि कानपुर में ट्रायल की सफलता के बाद टीम के चीफ गाइड ने भारत बायोटेक के साथ स्वास्थ्य मंत्रालय को बच्चों को तत्काल पहली डोज लगाने की सिफारिश की है. यहां सबसे कम उम्र की ढाई साल की बच्ची पर किया गया था, जो पूरी तरह फिट है. 0-6, 6-12 और 12-18 उम्र के 55 बच्चों पर कोवैक्सीन का ट्रायल जून से अगस्त के बीच किया गया था. हालांकि सरकार बच्चों की वैक्सीन को लेकर जल्दबाजी नही दिखाएगी. लेकिन आज कोरोना की बूस्टर डोज और बच्चों की वैक्सीन पर बड़ा फैसला हो सकता है.

Advertisement

कोवैक्सीन पाया गया है बच्चों के लिए परफेक्ट

बच्चों के लिए किए गए परीक्षण में कोवैक्सीन की दूसरी डोज के बाद एंटीबॉडी टाइटर टेस्ट किए गए तो सभी में हाई एंटीबॉडी पाई गई. पूर्व डीजीएमई डॉ. वीएन त्रिपाठी के मुताबिक के मुताबिक यह सही समय है जब बच्चों को टीके की शुरुआत कर देनी चाहिए. पहली डोज के बाद दूसरी का शेड्यूल अगले महीने आएगा, तब तक लाखों बच्चे नए वैरिएंट से सुरक्षित हो जाएंगे. ट्रायल में कोवैक्सीन की प्रभावकारिता 81 फीसदी से ज्यादा मिली है. खासकर 12-18 साल के किशोरों को इसे लगाने की सिफारिश सरकार और निर्माता कंपनी से की है.

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. India.Com पर विस्तार से पढ़ें मनोरंजन की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

Published Date:December 6, 2021 1:27 PM IST

Updated Date:December 6, 2021 1:34 PM IST

Topics