Omicron In India: रहें अलर्ट! आनेवाली है कोरोना की तीसरी लहर, रोज मिलेंगे एक लाख मरीज, लॉकडाउन ही उपाय

आइआइटी डाटा वैज्ञानिकों ने कोरोना की तीसरी लहर को देखते हुए लोगों से सावधान रहने की बात कही है. तीसरी लहर, में रोज मिलेंगे एक लाख मरीज, लॉकडाउन ही इस बार होगा अंतिम उपाय, जानिए पूरी खबर....

Advertisement

Omicron In India: दुनिया के कई देशों में कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन को लेकर हलचल मची है. इसके साथ ही इस नए वैरिएंट ने भारत में भी दस्तक दे दी है. अबतक देश में कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन के  महाराष्‍ट्र में 10, राजस्‍थान में 9, कर्नाटक में 2, गुजरात और दिल्‍ली में 1-1 मरीज मिले हैं. ओमिक्रॉन को लेकर खास सतर्कता बरती जा रही है. केंद्र और राज्य सरकारें लोगों को सतर्क रहने की अपील कर रही हैं, वहीं आईआईटी के डाटा वैज्ञानिक दल ने दावा किया है कि नए खतरे बढ़ा रहे कोरोना वायरस की वजह से कोविड-19 महामारी की तीसरी लहर फरवरी में आ सकती है और  तीसरी लहर में 1 से 1.5 लाख तक अधिकतम मामले प्रतिदिन आ सकते हैं.

Advertising
Advertising

अध्ययन दल में शामिल डाटा वैज्ञानिक मनिंद्र अग्रवाल ने बताया है कि इस कोरोना की तीसरी लहर के बड़े आंकड़े के पीछे ओमिक्रॉन ही हो सकता है. हालांकि वैज्ञानिकों ने ये भी कहा है कि इसके कोरोना की पिछली यानी दूसरी लहर से कमजोर रहने का भी अनुमान है.

ओमिक्रॉन को हल्के में लेने की भूल ना करें लोग

यह भी पढ़ें

अन्य खबरें

वैज्ञानिकों के नए  दावे चिंता बढ़ाने वाले हैं. उनके अनुसार नए वैरिएंट ने नई आशंकाएं पैदा की हैं. हालांकि अब तक यही देखने में आया कि ओमिक्रॉन की घातकता डेल्टा जैसी नहीं है. दक्षिण अफ्रीका में मिल रहे मामलों को देखने की जरूरत है. जहां अत्यधिक मामलों के बावजूद अभी भर्ती होने वालों की दर कम है, लेकिन इसे हल्के में नहीं लिया जा सकता. आने वाले दिनों में वहां नए संक्रमण व भर्ती करवाए गए लोगों का अनुपात देखकर स्थितियां और साफ होंगी.

Advertisement

लॉकडाउन से ही कंट्रोल किया जा सकेगा

वैज्ञानिक दल में शामिल मनिंद्र अग्रवाल ने कहा कि पिछली बार रात के कर्फ्यू और भीड़ भरे आयोजनों को रोकने से कोरोना पर काबू पाया गया था और संक्रमितों की संख्या में कमी लाई गई थी. इसे देखते हुए आनेवाले समय में भी हल्के स्तर पर लॉकडाउन लगाकर इस वैरिएंट को  नियंत्रित किया जा सकता है.

डीएसटी के सूत्र-मॉडल पर ध्यान देना जरूरी है

अग्रवाल ने कहा कि पहले ही विज्ञान एवं तकनीक विभाग ने एक सूत्र-मॉडल प्रस्तुत किया था, जिसमें वायरस का कोई नया वैरिएंट आने पर तीसरी लहर के अक्तूबर में आशंका जताई गई थी. हालांकि नवंबर आखिरी हफ्ते में नया वैरिएंट ओमिक्रॉन सामने आ भी गया है. इसीलिए विज्ञान विभाग के इस सूत्र मॉडल में जताई आशंका पूरी तरह खत्म नहीं होती, केवल समय बदल सकता है.

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. India.Com पर विस्तार से पढ़ें मनोरंजन की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

Published Date:December 7, 2021 8:50 AM IST

Updated Date:December 7, 2021 8:50 AM IST

Topics