Omicron India Update: कोरोना के ओमिक्रॉन वेरिएंट (Omicron Variant) ने भारत में भी दस्तक दे दी है. स्वास्थ्य मंत्रालय ने देश में ओमिक्रॉन के दस्तक की जानकारी दी. स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि कर्नाटक से कोरोना के नए वेरिएंट के 2 मामले सामने आए हैं. लव अग्रवाल (Lav Agarwal) ने कहा कि सभी Omicron संबंधित मामलों में अब तक हल्के लक्षण पाए गए हैं. उधर, बृहत बेंगलुरु महानगर पालिका (BBMP) ने बताया कि शहर में सामने आये ओमिक्रोन के 2 मामलों में एक दक्षिण अफ्रीकी नागरिक है, जबकि दूसरा स्थानीय व्यक्ति है. हालांकि, बेंगलुरु के रहने वाले व्यक्ति ने विदेश यात्रा नहीं की थी. नगर निकाय ने बताया कि दक्षिणी अफ्रीकी नागरिक अपनी कोविड-19 जांच रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद देश से चला गया.Also Read - 'तीसरी लहर के बावजूद मजबूत हुई भारत की समग्र आर्थिक गतिविधि'

BBMP ने कहा कि स्थानीय व्यक्ति के संपर्क में आए पांच लोगों की भी जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है और उनके नमूने जीनोमिक सीक्वेंसिंग लिए भेजे गये हैं. अधिकारियों के मुताबिक ओमिक्रोन की पुष्टि जिन दो लोगों में हुई थी, उन्हें कोविड टीके की दोनों खुराक लगी थी. बीबीएमपी मुख्य आयुक्त गौरव गुप्ता ने कहा, ‘कृपया गौर करें कि दूसरे व्यक्ति ने कोई (विदेश) यात्रा नहीं की थी इसलिए और अधिक लोगों के संक्रमित होने की गुंजाइश है. इस नये स्वरूप के खिलाफ सतर्क रहने की जरूरत है.’ Also Read - Pregnancy Tips: ओम‍िक्रोन के बढते खतरे के बीच क्‍या आप हो गई हैं प्रेग्‍नेंट, इन बातों का रखें खास ख्‍याल

उन्होंने संवाददाताओं से बात करते हुए कहा कि प्रशासन इस वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने के उपायों के बारे में विशेषज्ञों के साथ निरंतर परामर्श कर रहा है. उन्होंने कहा, ‘मैं यही कहूंगा कि एहतियाती उपायों पर ध्यान दें क्योंकि किसी भी स्वरूप के लिए ये एक समान हैं.’ ओमिक्रोन स्वरूप के मामलों का ब्योरा साझा करते हुए गुप्ता ने कहा कि पहला मरीज 66 वर्षीय पुरुष है, जो दक्षिण अफ्रीका का नागरिक है. उन्होंने बताया, ‘वह 20 नवंबर को यहां (बेंगलुरु) आया था, उसके नमूने जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए भेजे गये थे, जिसकी रिपोर्ट आज आई और उसमें उसके ओमीक्रोन से संक्रमित होने की पुष्टि हुई है.’ Also Read - कब खत्म होगी कोरोना महामारी, क्या लोगों को हमेशा लगाना होगा मास्क? जानें अंतरराष्ट्रीय स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने क्या कहा...

उन्होंने बताया कि इस व्यक्ति को एक होटल में पृथक रखा गया था और बाद में एक अन्य प्रयोगशाला में अलग से जांच की गई, जिस दौरान उसकी रिपोर्ट निगेटिव आई. वह 27 नवंबर को देश से दुबई के लिए रवाना हो गया.’ आयुक्त ने बताया कि उसके सीधे संपर्क में आए 24 लोग और परोक्ष रूप से सपंर्क में 240 लोगों के नमूनों की जांच निगेटिव आई है, लेकिन उन लोगों को निगरानी में रखा गया है. गुप्ता ने दूसरे व्यक्ति के बारे में बताया कि उसके नमूने 22 नवंबर को लिये गये थे, जिसके बाद उसकी जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई.

उन्होंने बताया कि उसके नमूने में सी.टी. वैल्यू कम थी, जिस कारण इसे एनसीबीसी प्रयोगशाला को भेजा गया और आज पॉजिटिव रिपोर्ट आई. उन्होंने बताया, ‘उसे शुरुआत में घर पर पृथक रखा गया था और बाद में एक अस्पताल में भर्ती करा दिया गया. वह एक स्थानीय व्यक्ति है और उसने कोई यात्रा नहीं की थी. उसकी हालत स्थिर है और वह रोग से उबर रहा है. चिंता की कोई बात नहीं है.’ यह दूसरा मरीज, एक चिकित्सक बताया जा रहा है. उसके शरीर में दर्द की शिकायत होने और अन्य लक्षणों के बाद आरटी-पीसीआर जांच की गई थी.

गुप्ता ने बताया कि उसके प्रत्यक्ष संपर्क में आए 13 लोगों और अप्रत्यक्ष रूप से संपर्क में आए 205 लोगों की जांच की गई. उन्होंने बताया, ‘प्रत्यक्ष रूप से संपर्क में आए तीन लोग और अप्रत्यक्ष रूप से संपर्क में आए दो लोगों की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है. उन्हें पृथक रखा गया है और उनके नमूने सीक्वेंसिंग के लिए भेजे गये हैं.’ उन्होंने दूसरे मरीज के बारे में बताया कि वह बेंगलुरु से है.

(इनपुट: भाषा)