Omicron in India: ICMR के वरिष्ठ डॉक्टर ने कही डराने वाली बात, बोले मुझे हैरानी नहीं होगी अगर...

Omicron in India: क्या कोरोना वायरस (Coronavirus) का ओमिक्रोन स्ट्रेन (Omicron Strain) भारत में आ चुका है? इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) में महामारी विज्ञान विभाग के प्रमुख (Head of Epidemiology) डॉ. समीरन पांडा (Dr. Samiran Panda) ने इस पर डराने वाली बात कही है...

Advertisement

Omicron in India: क्या कोरोना वायरस (Coronavirus) का ओमिक्रोन स्ट्रेन (Omicron Strain) भारत में आ चुका है? ये प्रश्न आज इस डर के साए में जी रहे हर व्यक्ति के मन में है. इसी प्रश्न का जवाब दिया है इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) में महामारी विज्ञान विभाग के प्रमुख (Head of Epidemiology) डॉ. समीरन पांडा (Dr. Samiran Panda) का कहना है, यह संभव है कि Omicron स्ट्रेन भारत में आ चुका हो और बस इसका पता न लगा हो, यानी अभी पहला केस रजिस्टर न हुआ हो. उन्होंने दक्षिण अफ्रीका (South Africa) से लौटे कुछ लोगों के कोरोना पॉजिटिव (Covid Positive) होने पर कहा, 'दक्षिण अफ्रीका में ओमिक्रोन वेरिएंट का पहला मामला 9 नवंबर को सामने आया था. उसके बाद से बहुत से लोग दक्षिण अफ्रीका से भारत आए हैं.' एक निजी टीवी चैनल से बात करते हुए आईसीएमआर (ICMR) के डॉ. पांडा ने कहा, 'अगर भारत में ओमिक्रोन (Omicron in India) का कोई मामला सामने आता है तो मुझे हैरानी नहीं होगी. यह वेरिएंट बहुत संक्रामक है और भारत में इसका पाया जाना सिर्फ समय की बात है, जो कभी भी सामने आ सकता है.'

Advertising
Advertising

डॉ. पांडा का मानना है कि भारत की तैयारी अच्छी है. अपनी इस बात के लिए कोरोना वायरस (SARS-CoV-2) के जिनोमिक विविधताओं (Genomic Variations) पर निगरानी रखने के लिए भारत सरकार ने एक बहु-प्रयोगशाला (Multi Laboratory), बहु-एजेंसी (Multi Agency), अखिल भारतीय नेटवर्क (Pan India Network) INSACOG लेब नेटवर्क का उदाहरण देते हैं. इस नेटवर्क के तहत देशभर में फैली अलग-अलग लैब में कोविड पॉजिटिव रोगियों के सैंपल भेजे जाते हैं, ताकि वह वायरस के जेनेटिक मेकअप की पहचान के लिए स्टडी कर पाएं. इससे वायरस के अलग-अलग स्ट्रेन की पहचान में मदद मिलती है. उन्होंने कहा ये लैब संक्रमण के लिए जिम्मेदार अलग-अलग वेरिएंट की पहचान करने में माहिर हैं.

अगर आपको लगता है कि आपने दोनों वैक्सीन ले ली हैं और अब आप निश्चिंत होकर कहीं भी बिना मास्क के घूम सकते हैं तो डॉ. पांडा की भी इस बारे में राय पढ़ लें. डॉ. पांडा ने कहा, हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि वैक्सीन हमें पूरी तरह से सुरक्षित नहीं रख सकती है, भले ही हमने दोनों वैक्सीन लगवा ली हों. अगर आप कोविड-19 के लिए निर्धारित सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क पहनने और बार-बार साबुन व पानी से हाथ धोना जैसी जरूरी बातों का ध्यान नहीं रखेंगे तो आप कभी भी कोरोना वायरस ने नए-नए वेरिएंट से भी संक्रमित हो सकते हैं. इससे बचने के उपाय आप जानते ही हैं, भीड़भाड़ में जाने से बचें, सैनिटाइजर का इस्तेमाल करें और अन्य जरूरी बातों का भी ध्यान रखें.

यह भी पढ़ें

अन्य खबरें

इसका मतलब यह भी नहीं है कि वैक्सीन लगाने से कोई फायदा नहीं है. बल्कि डॉ. पांडा का कहना है कि वैक्सान आपको दोबारा संक्रमण से भले न बचा पाए, लेकिन इससे हो सकता है गंभीर संक्रमण और अस्पताल में भर्ती होने की नौबत न आए और मृत्यु का खतरा भी कम हो सकता है. इसलिए अगर आपने अभी तक भी वैक्सीन नहीं लगवाई है तो जल्द से जल्द वैक्सीन लगवा लें. कई जानकार ओमिक्रोन की संक्रामकता को लेकर बड़े चिंतित हैं. अगर यह भारत में दूसरी लहर लाने वाले डेल्टा वेरिएंट की तरह फैला तो इससे स्वास्थ्य सेवाएं चरमरा सकती हैं. गंभीर मामले न होने के बावजूद भी इससे रोगियों की संख्या बढ़ सकती है. जिनको पहले से ही कुछ बीमारियां हैं, उनमें मृत्यु का खतरा भी हो सकता है.

Advertisement

आजकल हर कोई बूस्टर डोज की बात कर रहा है. इस पर डॉ. पांडा ने एनडीटीवी से कहा, इस समय पहली प्राथमिकता ज्यादा से ज्यादा लोगों को दो वैक्सीन देने की है. उन्होंने बताया कि जिन लोगों को बूस्टर डोज की जरूरत है, उन्हें यह दिया जा सकता है, लेकिन फिलहाल सभी लोगों को दो वैक्सीन देने पर ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता है... पहली प्राथमिकता देश की पूरी जनसंख्या को दो वैक्सीन से इन्यूनाइज करने की है.

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. India.Com पर विस्तार से पढ़ें मनोरंजन की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

Published Date:November 30, 2021 8:37 AM IST

Updated Date:November 30, 2021 10:31 AM IST

Topics