Armed Forces Flag Day: आज यानी मंगलवार 7 दिसंबर को झंडा दिवस (Jhanda Diwas) के रूप में मनाया जा रहा है. इस दिन को मनाने का उद्देश्य देश के लिए प्राण न्योछावर करने वाले और इसके लिए हमेशा तत्पर रहने वाले वीर सैनिकों को सम्मानित करना है. इस दिन देशवासी ऐसे वीर जवानों को याद करते हैं, जिन्होंने देश के सम्मान और रक्षा में देश की सीमाओं पर बहादुरी से दुश्मनों का मुकाबला किया और अपना सर्वस्व न्योछावर कर दिया. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने भी सशस्त्र बल झंडा दिवस (Flag Day) के अवसर पर सैन्य बलों के अतुलनीय योगदान की सराहना की और कहा कि उनमें उत्कृष्ट दृढ़ता और साहस है.Also Read - Kevin Pietersen को मिला PM Modi का लेटर, गदगद होकर भारत को बताया 'वैश्विक शक्ति'

साल 1949 से ही 7 दिसंबर को पूरे देश में सशस्त्र सेना झंडा दिवस के रूप में मनाया जाता है. पीएम मोदी ने अपने ट्वीट में कहा, ‘सशस्त्र बल झंडा दिवस के अवसर पर मैं एक बार फिर सैन्य बलों के अतुलनीय योगदानों को रेखांकित करना चाहूंगा. उनकी दृढ़ता और साहस उत्कृष्ट है.’ उन्होंने कहा, ‘मैं आप सभी से आग्रह करूंगा कि आप भी हमारी सेना के कल्याण में योगदान दें.’ Also Read - दिल्ली के करियप्पा ग्राउंड में NCC रैली में पहुंचे पीएम मोदी, बेस्ट कैडेट्स को सम्मानित भी किया

सशस्त्र सेना झंडा दिवस के अवसर पर सेना के लिए दान देने का चलन है. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने इसी दिन को ध्यान में रखते हुए पिछले सप्ताह गुरुवार को ही सशस्त्र सेना झंडा दिवस कोष में और अधिक उदारता से दान देने की अपील की थी, जिसका इस्तेमाल पूर्व सैनिकों व उनके आश्रितों के पुनर्वास तथा कल्याण के लिए किया जाता है. Also Read - Pakistan: बलूचिस्तान में सेना की जांच चौकी पर आतंकी हमला, 10 सैनिकों की मौत

रक्षा मंत्रालय ने एक बयान में कहा था कि उन्होंने 2020-21 में फंड में प्रमुख रूप से योगदान देने वालों को सम्मानित किया, जिनमें भारतीय स्टेट बैंक और सन टीवी शामिल हैं. राजनाथ सिंह ने अपने भाषण में कोविड-19 महामारी के खिलाफ लड़ाई के दौरान विभिन्न स्थानों पर संक्रमितों के संपर्क में आए लोगों का पता लगाने, सामुदायिक निगरानी और पृथकता संबंधी सुविधाओं के प्रबंधन में नागरिक प्रशासन की स्वेच्छा से मदद करने के लिए पूर्व सैनिकों की सराहना की.

राजनाथ सिंह ने कहा कि सरकार सशस्त्र बलों के कर्मियों व पूर्व सैनिकों को हरसंभव सहायता प्रदान कर रही है, लेकिन उनका कल्याण एक सामूहिक जिम्मेदारी है. बयान में कहा गया है, “राजनाथ सिंह ने उन सभी का आभार व्यक्त किया जिन्होंने एएफएफडीएफ (सशस्त्र सेना झंडा दिवस कोष) में बहुमूल्य योगदान दिया और उन्होंने पूर्व सैनिकों, वीर नारियों और उनके आश्रितों के पुनर्वास व कल्याण के लिए अधिक उदारता के साथ दान करने की अपील की.”

(इनपुट – पीटीआई)