नई दिल्ली. 15 अगस्त 2017 को असम एक तस्वीर वायरल हुई थी. इसमें धुबरी जिले के एक सरकारी प्राइमरी स्कूल में दो बच्चे सीने तक पानी में उतरे हुए तिरंगे को सलामी दे रहे थे. इस तस्वीर में दो और शख्स थे, जोकि स्कूल के टीचर थे. यह तस्वीर सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हुई थी. लोग बच्चों और टीचर के राष्ट्रप्रेम को सलाम कर रहे थे. लेकिन अब इसी तस्वीर में बाएं खड़ा शख्स परेशानियों से जूझ रहा है. इसकी परेशानी का कारण है एनआरसी की फाइन लिस्ट.

अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, तस्वीर में बाएं खड़ा बच्चा 9 साल का हैदर खान है. नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजन (NRC) की फाइनल लिस्ट में उसका नाम नहीं है. हालांकि, तस्वीर में दिख रहे अन्य तीन शख्स का नाम लिस्ट में है. लेकिन बाएं खड़ा बच्चा इन दिनों परेशान है. बता दें कि तस्वीर में 9 साल का हैदर खान, हैदर का 10 साल का रिश्तेदार जैरुल खान, हेड टीचर तजेन सिकदर (नीली शर्ट में) और असिस्टेंट टीचर नृपेन राभा है.

हैदर के पिता रुपनल खान की साल 2011 में कोकरझार में हुई हिंसा के दौरान हत्या हो गई थी. उसकी फैमिली में जोयगन खातून जो कि घरों में काम करती हैं, 12 साल का भाई और 6 साल की बहन है. उसके दादा अलोम खान भी जीवित हैं. हैदर से बात करने पर उसने बताया कि एनआरसी के बारे में उसे स्पष्ट तौर पर बहुत कुछ नहीं पता है. मैं वहीं करता हूं जो हमारे क्षेत्र के पढ़े-लिखे लोग कहते हैं.

पिछले साल की फोटो के बारे में हैदर इंडियन एक्सप्रेस को बताता है कि पूरा परिसर पानी से भरा था. जिस जगह पर झंडा फहराना था, वहां जाने से स्कूल स्कूल के दूसरे बच्चे डर रहे थे. लेकिन, जारुल और मैं तैरते हुए वहां पहुंचे. इसके बाद हम खड़े होकर झंड को सलाम किए.