नई दिल्ली: दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने उत्तरपूर्वी दिल्ली में झड़पों के दौरान हिंसा के मद्देनजर सोमवार को पुलिस आयुक्त को कानून-व्यवस्था बनाए रखने का निर्देश दिया. बैजल ने ट्वीट किया, ‘‘दिल्ली पुलिस और दिल्ली पुलिस आयुक्त को उत्तर पूर्वी दिल्ली में कानून व्यवस्था बनाए रखने के निर्देश दिए गए हैं . हालात पर करीबी नजर रखी जा रही है . मैं हर किसी से शांति और सौहार्द बनाए रखने के लिए संयम बरतने का अनुरोध करता हूं.’’ Also Read - Delhi: महिला ने दो बच्‍चों की हत्‍या करने के बाद कर ली सुसाइड

इससे पहले उत्तर पूर्वी दिल्ली में संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) को लेकर झड़प के दौरान सोमवार को दिल्ली पुलिस के एक हेड कांस्टेबल की मौत हो गई. एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने इस बारे में बताया है. उन्होंने बताया कि हेड कांस्टेबल रतन लाल सहायक पुलिस आयुक्त के कार्यालय से जुड़े हुए थे. पुलिस अधिकारी ने बताया कि झड़प में कई पुलिसकर्मी घायल हुए हैं. संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) का विरोध और समर्थन करने वाले समूहों के बीच झड़पों के एक दिन बाद सोमवार को कई गाड़ियों, दुकानों और मकानों में आग लगा दी गयी. Also Read - Delhi: CM Kejriwal ने माता-पिता के साथ ली कोरोना वैक्सीन, LNJP हॉस्पिटल में कराया टीकाकरण

उत्तर पूर्वी दिल्ली में झड़प को लेकर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने उपराज्यपाल, केंद्रीय गृह मंत्री से व्यवस्था बहाल करने का अनुरोध करते हुए कहा कि किसी को भी माहौल खराब करने की अनुमति नहीं देनी चाहिए. Also Read - UP पुलिस ने पूर्व एमपी धनंजय सिंह की तलाश में लखनऊ से दिल्ली तक छापे मारे

अलग-अलग घटनाओं पर दिल्ली पुलिस ने कहा, “नॉर्थ ईस्ट डिस्ट्रिक्ट के इलाकों, खासकर मौजपुर, कर्दमपुरी, चांद बाग और दयालपुर के इलाकों में हिंसा और आगजनी की कुछ घटनाएं सामने आई हैं. लोगों से अपील की गई है कि वे शांति और सद्भाव बनाए रखें और किसी भी झूठी अफवाह पर विश्वास न करें.” दिल्ली पुलिस के मुताबिक उत्तर पूर्व जिले के प्रभावित इलाकों में धारा 144 लागू कर दी गई है और उपद्रवियों और असामाजिक तत्वों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

उत्तर-पूर्वी दिल्ली के जाफराबाद और मौजपुर इलाकों में प्रदर्शनकारियों ने कम से कम दो घरों में आग लगा दी, जिससे तनाव और बढ़ गया है. इन इलाकों में सोमवार को लगातार दूसरे दिन सीएए समर्थक और विरोधी समूहों के बीच झड़पें हुईं. प्रदर्शनकारियों ने एक-दूसरे पर पथराव किया. पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े. पुलिस ने समूहों को शांत कराने के भी प्रयास किए.

अधिकारियों के अनुसार प्रदर्शनकारियों ने इलाके में लगी आग बुझाते समय दमकल की एक गाड़ी को भी नुकसान पहुंचाया. दिल्ली मेट्रो ने इलाके में तनाव के बीच जाफराबाद और मौजपुर-बाबरपुर स्टेशनों पर प्रवेश और निकास द्वार बंद कर दिए. डीएमआरसी ने ट्वीट किया, ‘‘जाफराबाद तथा मौजपुर-बाबरपुर मेट्रो स्टेशनों के प्रवेश एवं निकास द्वार बंद कर दिए गए हैं. इन स्टेशनों पर ट्रेनें नहीं रुकेंगी.’’

जाफराबाद मेट्रो स्टेशन के प्रवेश और निकास द्वार पिछले 24 घंटों से बंद हैं. संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ बड़ी संख्या में प्रदर्शन कर रहे लोगों ने रविवार को सड़क अवरुद्ध कर दी थी जिसके बाद जाफराबाद में सीएए के समर्थकों और विरोधियों के बीच झड़प शुरू हो गई थी. दिल्ली के कई अन्य इलाकों में भी ऐसे ही धरने शुरू हो गए हैं.

मौजपुर में भाजपा नेता कपिल मिश्रा ने एक सभा बुलाई थी जिसमें मांग की गयी थी कि पुलिस तीन दिन के भीतर सीएए विरोधी प्रदर्शनकारियों को हटाए, इसके तुरंत बाद दो समूहों के सदस्यों ने एक-दूसरे पर पथराव किया, जिसके चलते पुलिस को आंसू गैस के गोले छोड़ने पड़े