कोलकाता: पश्चिम बंगाल के पुरलिया में रामनवमी के अवसर पर निकाली गई एक शोभायात्रा को लेकर दो समूहों के बीच हुई झड़प में एक व्यक्ति की मौत हो गई जबकि पांच पुलिसकर्मी जख्मी हो गए. पुलिस ने यह जानकारी देते हुए बताया कि राज्य में सशस् रैलियों पर पाबंदी के बावजूद कई जगहों पर बीजेपी समर्थकों ने सशस्त्र रैलियां निकाली. तृणमूल कांग्रेस के नेताओं के मुताबिक रविवार को हुई इस घटना के दौरान बच्चों के हाथों में भी तलवार देखे गए. पुरुलिया के पुलिस अधीक्षक जॉय बिस्वास ने झड़प में एक व्यक्ति के मारे जाने की पुष्टि की जबकि अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (कानून- व्यवस्था) अनुज शर्मा ने कहा कि डिप्टी एसपी रैंक के एक पुलिस अधिकारी सहित पांच पुलिसकर्मी दो समूहों के बीच हुई हिंसा में जख्मी हो गए. अर्शा पुलिस स्टेशन इलाके में रामनवमी के अवसर पर निकाली गई शोभायात्रा को लेकर दो समूहों के बीच हिंसा भड़की थी. Also Read - MBBS Seats Increase: इस राज्य में MBBS की सीटें बढ़कर हुई 4 हजार, सीएम ने दी ये जानकारी

राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने पिछले हफ्ते कहा था कि उनकी सरकार रामनवमी की रैलियों में हथियार लेकर चलने की इजाजत नहीं देगी. हालांकि उन्होंने कहा था कि कुछ ऐसे संगठनों को हथियार लेकर चलने की इजाजत होगी जो काफी लंबे समय से ऐसी रैलियां कर रहे हैं.

प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष दिलीप घोष ने सोमवार को कहा कि उन्हें शोभायात्रा के दौरान हथियार लेकर चलने पर कोई पाबंदी लगे होने के बारे में नहीं पता है. रविवार को घोष को भी खड़गपुर में एक रैली में तलवार और गदा के साथ देखा गया था. घोष ने कहा कि रामनवमी के दिन ‘अस्त्र पूजा’ करना सदियों पुरानी हिंदू परंपरा है. उन्होंने कहा कि रामनवमी की शोभा यात्राओं में हथियारों पर पाबंदी लगाने का सरकारी आदेश कहां है? सर्कुलर कहां है? सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस और विपक्षी भाजपा ने राज्य के विभिन्न हिस्सों में रामनवमी मनाने के लिए शोभा यात्राएं निकाली थीं. बीजेपी ने इन शोभा यात्राओं को बंगाल के ‘हिंदुओं को एकजुट करने’ की दिशा में पहला कदम करार दिया था. एडीजीपी ने कहा कि कई जगहों पर हथियारों से लैस होकर शोभा यात्राएं निकाली गई.

शर्मा ने कहा, ‘पुलिस की ओर से इजाजत नहीं दिए जाने के बाद भी विभिन्न जगहों पर हथियारों से लैस होकर रैलियां निकाली गई. पुलिस इसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई करेगी.’ पुरुलिया जिले में तृणमूल कांग्रेस के नेताओं ने आरोप लगाया कि विश्व हिंदू परिषद ने हथियारों से लैस होकर रामनवमी पर शोभा यात्रा निकाली जिसमें बच्चों के हाथों में भी हथियार देखे गए. बहरहाल संपर्क किए जाने पर विहिप के प्रदेश अध्यक्ष सचिंद्रनाथ सिन्हा ने सभी आरोपों से इनकार किया. (इनपुट-भाषा)