Also Read - गृह मंत्री अमित शाह ने कश्मीर में सुरक्षा हालात और आतंकवाद से निपटने को लेकर उठाए गए कदमों की समीक्षा की

हैदराबाद : तेलंगाना को देश का सबसे सुरक्षित राज्य बनाने के प्रयास के मद्देनजर राज्य सरकार ने हैदराबाद शहर में एक लाख सीसीटीवी कैमरा लगाने की योजना बनाई है। इस योजना की घोषणा राज्य के वित्तमंत्री ई. राजेंद्र ने 2015-16 के लिए पूर्ण बजट पेश करते हुए की। बुधवार को राज्य का पहला पूर्ण बजट पेश किया गया।  उन्होंने कहा कि सभी कैमरे प्रस्तावित पुलिस आदेश और नियंत्रण केंद्र से जुड़े रहेंगे। Also Read - Ganesha Laddu: समृद्धि प्रदान करने वाला 21 किलो का गणेश लड्डू, 18.90 लाख में हुआ नीलाम

यह देश में अपने तरह की सबसे बड़ी परियोजना मानी जा रही है और इसका उद्देश्य 24घंटे अंतर्राष्ट्रीय स्तर की निगरानी प्रणाली सुनिश्चित करने और इस प्रौद्योगिकी केंद्र में सुरक्षा व्यवस्था मजबूत करना है। उल्लेखनीय है कि पिछले आठ सालों में हैदराबाद में कई आतंकवादी हमले हुए हैं। सीसीटीवी कैमरे हैदराबाद और उससे सटे साइबराबाद पुलिस निदेशालय की सीमा में स्थापित किए जाएंगे। साइबराबाद का सूचना प्रौद्योगिकी केंद्र भी इसकी जद में आएगा। साइबराबाद में गूगल और माइक्रोसॉफ्ट समेत विश्व की कई दिग्गज कंपनियों के दफ्तर हैं। Also Read - हैदराबाद में छह वर्षीय बच्ची के बलात्कार और हत्या के आरोपी ने की खुदकुशी, रेल पटरी पर मिली मृत

सीसीटीवी परियोजना से पुलिस को राज्य की राजधानी के चप्पे-चप्पे की जानकारी रखने में मदद मिलेगी। हैदराबाद में कई महत्वपूर्ण रक्षा और अनुसंधान संस्थान हैं। सीसीटीवी कैमरे सार्वजनिक स्थलों जैसे पूजा स्थल, शैक्षिक संस्थान, बस स्टैंड, मॉल, होटल और रेलवे स्टेशनों पर लगाए जाएंगे। हैदराबाद के पुलिस आयुक्त एम. महेंद्र रेड्डी ने पूर्व में कहा था कि शहर में 10,000 कैमरे लगाए जाएंगे, जिसके लिए 600 करोड़ रुपये का खर्च आएगा। उन्होंने कहा था कि प्रौद्योगिकी बढ़ी हुई मदद का काम करेगी और अपराध और यातायात नियमों के उल्लंघन पर नजर रखने में मदद मिलेगी। उन्होंने यह भी कहा था कि पूर्व में लगाए गए सीसीटीवी कैमरों की मदद से बीते छह माह में शहर की पुलिस ने 90 फीसदी अपराधों की गुत्थी को सुलझा लिया।