Indian Women hockey team, तोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olympics 2020) के सेमीफाइनल में अर्जेंटीना से हारने के बाद भारतीय महिला हॉकी टीम की सदस्य वंदना कटारिया के परिवार के साथ कथित तौर पर गाली-गलौच तथा जातिसूचक टिप्पणी करने के आरोप में पुलिस ने बृहस्पतिवार को हरिद्वार जिले के रोशनाबाद क्षेत्र में एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया.Also Read - Man Ki Baat में बोले पीएम मोदी-खेल को लेकर युवाओं में दिख रहा जुनून, यही है मेजर ध्यानचंद को सच्ची श्रद्धांजलि

हरिद्वार के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक सेंथिल अवूदई कृष्णराज एस. ने बताया कि वंदना के भाई चंद्रशेखर कटारिया की शिकायत पर कार्रवाई करते हुए पुलिस ने मामले में तीन नामजद सहित अन्य अज्ञात आरोपियों के विरूद्ध प्राथमिकी दर्ज करते हुए एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है. आरोपियों के खिलाफ भारतीय दंड संहित की धारा 504 और अनुसूचित जाति/ अनुसूचित जनजाति अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया है. Also Read - ओलंपिक में शानदार प्रदर्शन से पता चलता है कि हॉकी अभी भी जिंदा है: महिला हॉकी टीम कोच

मुख्य आरोपी विजय पाल (25) को मुखबिर की सूचना के आधार पर सुबह रोशनाबाद स्टेडियम गेट के पास से गिरफ्तार किया गया जबकि अन्य दो नामजद आरोपी अंकुर पाल और सुमित चौहान की गिरफ्तारी के लिए दबिश दी जा रही है. पुलिस अधिकारी ने बताया कि मामले की जांच की जा रही है और उसके आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी. Also Read - ग्रेट ब्रिटेन के साथ टोक्यो ओलंपिक का कांस्य पदक मुकाबला मेरा आखिरी मैच था: कोच शुअर्ड मरिने

अपनी शिकायत में चंद्रशेखर कटारिया ने कहा कि टीम के अर्जेंटीना से हारने के बाद बुधवार शाम कुछ व्यक्तियों ने उनके रोशनाबाद स्थित घर के बाहर आकर कथित तौर पर आतिशबाजी की. जब पटाखों की आवाज सुनकर परिवार बाहर आया तो उन्होंने गाली गलौच की तथा जातिसूचक शब्दों का प्रयोग करते हुए कथित तौर पर कहा कि टीम इसलिए हारी क्योंकि उसमें बहुत सी दलित खिलाडी खेल रही हैं.

(इनपुट भाषा)