नई दिल्‍ली: देश की राजधानी दिल्‍ली में कोरोना वायरस लॉकडॉउन 4.0 में बसें आज मंगलवार को सड़कों पर चलीं, लेकिन इनमें यात्र‍ियों की संख्‍या काफी कम आई. दरअसल, कोरोना वायरस लॉकडॉउन के चौथे चरण की गाइडलाइन में बसों में स‍वारियों की संख्‍या 20 तय कर दी गई थी. इसके मद्देनजर दिल्‍ली ट्रांसपोर्ट कॉर्पोरेशन (DTC) की बसों में 20 से ज्‍यादा लोगों को अंदर घुसने नहीं दिया गया है. Also Read - विदेश से आने वाले भारतीयों को अब 7 दिन रहना होगा क्वारंटाइन, वापस किए जाएंगे बचे हुए पैसे

एक कंडक्‍टर ने कहा, ”बस में एक बार में यात्रा करने के केवल 20 यात्र‍ियों की ही अनुमति है. बिना मास्‍क पहने हुए यात्री को बस में सफर करने की इजाजत नहीं है. Also Read - दिल्‍ली आज देश का दूसरा सबसे गर्म शहर, राजस्थान के चुरु में 50 °C तापमान रिकॉर्ड

इन बातें का जरूर रखें खयाल
– पहला- यह है कि बस में यात्रा करने के लिए हर व्‍यक्ति को मास्‍क पहनना होगा
– दूसरा- किसी भी बस में 20 से अधिक यात्री सवार नहीं हो सकते हैं
– तीसरा- सोशल डिस्‍टेंशिंग का खयाल जरूर रखें Also Read - छत्तीसगढ़ में Coronavirus के 15 नए केस, कुल आंकड़ा, 307 लेकिन कोई भी मौत नहीं

बता दें कि राष्ट्रीय राजधानी में करीब दो महीने तक बंद रहने के बाद मंगलवार को ‘सम-विषम’ फार्मूला के साथ कई बाजार भी खुल गए. ऐसा करने के दौरान कोरोना वारयस को फैलने से रोकने के लिए सैनिटाइजेशन किया गया और एक दूसरे से दूरी बनाने की कोशिश की गई.

गौरतलब है दिल्ली में कोविड-19 से जान गंवाने वाले लोगों की संख्या बढ़ कर 166 हो गई है, जबकि 500 नए मामले सामने आने के बाद संक्रमण के कुल मामलों की संख्या 10,554 पहुंच गई है. राष्ट्रीय राजधानी में अभी 5,638 संक्रमित लोगों का इलाज चल रहा है.

दिल्ली में बसों में अब 20, कार में 2, ई-रिक्शा, ऑटो रिक्शा में एक और टैक्सी व अन्य में 2 सवारियों को यात्रा की अनुमति है. शहर में सभी बाजार खोलने की अनुमति भी है, लेकिन शोषण डिस्टेंटिंग का पालन नहीं होने पर दुकानों को सील कर दिया जाएगा. जबकि कंटेनमेंट जोन में जरूरी सेवाओं को छोड़कर अन्य किसी गतिविधि में कोई छूट नहीं है.

दिल्‍ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को दिल्ली में रिक्शा चलाने, बस चलाने, टैक्सी चलाने, ग्रामीण सेवा चलाने, ऑटो चलाने सहित सार्वजनिक परिवहन के सभी साधनों के खोलने की घोषणा की थी. हालांकि मेट्रो सेवा पहले की तरह बंद रखने की बात कही. वहीं केंद्र सरकार ने मेट्रो पर 31 मई तक रोक लगा दी है.