नई दिल्ली। राजधानी चांदनी चौक जल्द ही राष्ट्रीय राजधानी का ऐसा पहला स्थान बनने वाला है जहां रोजाना सुबह नौ बजे से रात के नौ बजे तक केवल पैदल चलने वालों, साइकिल रिक्शों और ई-रिक्शों को ही चलने की इजाजत होगी. एक अधिकारी ने बताया कि यह फैसला यूनिफाइड ट्रैफिक एंड ट्रांसपोर्टेशन इंफ्रास्ट्रक्चर (प्लानिंग एंड इंजीनियरिंग) सेंटर (यूटीटीआईपीईसी) की हाल में हुई संचालक मंडल की बैठक में लिया गया. यह बैठक उप राज्यपाल अनिल बैजल की अध्यक्षता में हुई.

प्रस्ताव को मंजूरी

अधिकारी ने बताया कि यूटीटीआईपीईसी के संचालक मंडल ने चांदनी चौक की सड़कों पर वाहनों के प्रवेश पर रोक लगाने संबंधी प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है. उन्होंने कहा कि बैठक का ब्यौरा अभी तक सामने नहीं आया है इसलिए इस कदम को लागू करने के लिए समयसीमा पर फैसला नहीं लिया गया है.

सफाई न पानी, शौचालय बने चांदनी चौक की परेशानी

चांदनी चौक दिल्ली का ऐसा पहला स्थान बन जाएगा जहां मोटर वाले वाहनों का प्रवेश प्रतिबंधित होगा. यहां सुबह नौ बजे से रात नौ बजे तक केवल पैदल यात्रियों, साइकिल रिक्शा और ई-रिक्शा को ही अनुमति होगी.

हर वक्त भारी भीड़ और जाम

दिल्ली का चांदनी चौक ऐसा इलाका है जहां भारी संख्या में थोक और फुटकर की दुकानें होने की वजह से हर वक्त भारी भीड़ रहती है. लोग खरीदारी करने यहां पहुंचते हैं. इसके अलावा इसी इलाके में लाल किला भी है जिसकी वजह से पर्यटकों की भी यहां भारी संख्या में आमद रहती है. बाजार का इलाका अक्सर भीड़ से पटा रहता है और दुपहिया-चार पहिया वाहनों के चलते जाम रोजाना की बात बन गई है. इसी से निपटने के लिए अब यहां सिर्फ पैदल यात्रियों और रिक्शा को ही चलने देने का फैसला लिया है.