फोटो क्रेडिट-आज तक Also Read - History Of The Day: 6 जनवरी की वो बड़ी घटनाएं जो बनीं इतिहास का हिस्सा; Watch Video

Also Read - Golden Temple News: स्वर्ण मंदिर में बेअदबी मामले की जांच के लिए पंजाब सरकार ने बनाई SIT, दो दिनों में सौंपनी होगी रिपोर्ट

आज ऑपरेशन ब्लू स्टार की 32वीं बरसी है। इस मौक़े पर अमृतसर को छावनी में तब्दील कर दिया गया है. अमृतसर के अलावा पंजाब के कई दूसरे हिस्सों में कड़े सुरक्षा इंतज़ाम किए गए हैं। पंजाब पुलिस के अलावा अर्धसैनिक बलों की 15 टुकड़ियां तैनात की गई हैं जिसमें छह अमृतसर और बाक़ी की टुकड़ियों को लुधियाना, जालंधर और पटियाला में तैनात किया गया है। Also Read - पंजाब: स्वर्ण मंदिर में बेअदबी की कोशिश, मारे गए आरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज

इस मामले में पुलिस का कहना है कि किसी भी स्थिति में जबरन दुकानें या अन्य व्यावसायिक संस्थान बंद नहीं कराने दिया जाएगा। एहतियात के तौर पर पंजाब पुलिस ने करीब 130 लोगों को नजरबंद कर दिया है। इनमें से ज्यादा कट्टर सिख संगठन के लोग ही हैं। हालांकि अमृतसर के पुलिस कमिश्नर ने कहा है कि किसी भी दुकान को जबरन बंद नहीं करवाया जा सकता है न ही किसी को तलवार भांजने की इजाज़त होगी। यह भी पढ़े-स्वर्ण मंदिर परिसर में लहराई गईं तलवारें, काले झंडे दिखाए गए

पुलिस ने दल खालसा, यूनाइटेड अकाली दल और शिरोमणि अकाली दल अमृतसर के कई नेताओं को हिरासत में लिया है। रातभर पुलिस ने छापेमारी की.ऑपरेशन ब्लू स्टार की बरसी को ध्यान में रखते हुए शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (SGPC) सिविल और पुलिस प्रशान के लोगों ने सुरक्षा इंतजामों को लेकर पहले ही कई तरह की रणनीतियां बनाई हैं। शहर में कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए 8000 पुलिसकर्मियों को लगाया गया है। इनके अलावा पैरामिलिट्री फोर्सेज आरएएफ, सीआरपीएफ और आईटीबीपी के जवानों को भी तैनात किया गया है।

इसके साथ ही स्वर्ण मंदिर की सुरक्षा भी कड़ी कर दी गई है। अहम जगहों पर सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। पिछले साल स्वर्ण मंदिर में दो गुटों की झड़प में छह लोग ज़ख़्मी हो गए थे। इस बार ऐसी कोई अनहोनी न हो, इसके लिए प्रशासन पूरी तरह मुस्तैद है। सूबे के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल ने लोगों से शांति बरतने की अपील की है। इस बीच शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने यू-टर्न लेते हुए स्वर्ण मंदिर के कैंपस में मीडियाकवरेज़ को मंज़ूरी दे दी है।

SGPC ने मंदिर में सुरक्षा के लिए करीब 500 कर्मचारियों को लगाया है। जबकि अकाली दल ने भी पार्टी कार्यकर्ताओं को SGPC का सहयोग करने को कहा है।