नई दिल्ली: भारतीय नौसेना ने बुधवार को कहा कि उसने कोरोना वायरस महामारी के बीच तीन देशों से करीब 4,000 भारतीयों को वापस लाकर पांच मई को शुरू हुए समुद्र सेतु अभियान को पूरा कर लिया है. Also Read - IPL 2020: छह नहीं केवल तीन दिन का आइसोलेशन चाहती हैं आईपीएल टीमें

नौसेना ने एक बयान में कहा, ‘‘भारतीय नौसेनिक पोत जलाश्व (प्लेटफॉर्म डॉक) तथा ऐरावत, शार्दुल और मगर (लैंडिंग शिप टैंक) ने इस अभियान में भाग लिया जो 55 दिन तक चला और इसमें समुद्र से 23 हजार किलोमीटर से अधिक दूरी तय की गई.’’ Also Read - ममता बनर्जी को 5 अगस्त को लॉकडाउन वापस न लेने की कीमत चुकानी पड़ेगी: बीजेपी

अभियान के तहत मालदीव के माले से पांच जहाजों में भारतीयों को वापस लाया गया, वहीं ईरान के बंदर अब्बास तक दो तथा श्रीलंका के कोलंबो तक एक जहाज का परिचालन किया गया. Also Read - भारत में कोरोना की टेस्टिंग 2 करोड़ के पार, स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा- देश में रिकवर लोगों की संख्या एक्टिव केसों से दोगुनी

बयान में कहा गया कि भारतीय नौसेना के लिए सबसे बड़ी चुनौती थी कि जहाजों पर इस वापसी अभियान के दौरान कोरोना वायरस संक्रमण की कोई घटना न घटे. इसमें बताया गया कि व्यापक योजना के साथ कदम उठाये गये और जहाजों के परिचालन वातावरण के लिहाज से विशेष चिकित्सा और सुरक्षा प्रोटोकॉल अपनाये गए.