नई दिल्ली: सार्वजनिक क्षेत्र के तीन बड़े बैंकों के कर्मचारियों ने विलय के विरोध में आगामी 26 दिसम्बर को हड़ताल पर जाने का फैसला किया है. बैंक ऑफ बड़ौदा, देना बैंक और विजया बैंक के प्रस्तावित विलय का विरोध कर रहे बैंक कर्मचारी संगठनों ने 26 दिसंबर को देशव्यापी हड़ताल की चेतावनी दी है. सरकार ने सितंबर में सार्वजनिक क्षेत्र के तीन बैंकों बैंक ऑफ बड़ौदा, देना बैंक और विजया बैंक के विलय को मंजूरी दी थी.Also Read - BOB Recruitment 2022: बैंक ऑफ बड़ौदा में आई बंपर भर्ती, इन पदों पर जल्दी करें आवेदन

Also Read - BOB Recruitment 2022: बैंक ऑफ बडौदा में वैकेंसी, बिना परीक्षा होगी भर्ती

वित्त मंत्रालय को उम्मीद RBI की निगरानी सूची से बाहर हो सकते हैं कुछ सरकारी बैंक Also Read - Bank of Baroda Recruitment 2021: बैंक ऑफ बड़ौदा में सरकारी नौकरी का सुनहरा अवसर, जानें क्या चाहिए योग्यता

सरकार के निर्णय का विरोध

बैंक कर्मियों के संगठनों के संयुक्त मंच यूनाइडेट फोरम ऑफ बैंक यूनियंस (यूएफबीयू) के बैनर तले हड़ताल का आह्वान किया गया है. यूएफबीयू नौ कर्मचारी और अधिकारी संघों का संयुक्त निकाय है. अखिल भारतीय बैंक कर्मचारी संघ के महासचिव सी एच वेंकटाचलम ने कहा कि सरकार और बैंक विलय के फैसले पर आगे बढ़ रहे हैं, इसलिए हड़ताल का आह्वान किया गया है, क्योंकि बैंक इस विलय के पक्ष में नहीं हैं वो सरकार के इस फैसले से असहमत हैं.

नोटबंदी के वक्त आर्थिक सलाहकार रहे अरविंद सुब्रह्मण्यम ने कहा- अर्थव्यवस्था के लिए विनाशकारी था यह कदम

नेशनल ऑर्गेनाइजेशन ऑफ बैंक वर्कर्स के उपाध्यक्ष अश्विनी राणा ने कहा कि यूएफबीयू के अंदर आने वाले सभी कर्मचारी और अधिकारी संघ हड़ताल में हिस्सा लेंगे. सरकार की ओर से मंजूरी मिलने के बाद संबंधित बैंकों के निदेशक मंडल ने भी विलय के लिए अनुमति दे दी है. विलय के बाद बनाने वाली इकाई भारतीय स्टेट बैंक और एचडीएफसी बैंक के बाद देश का तीसरा सबसे बड़ा बैंक होगा. जून माह के अंत तक तीनों बैंकों का कुल कारोबार 14.82 लाख करोड़ रुपये था. (इनपुट भाषा)