जम्मू. जम्मू-कश्मीर विधानसभा में विपक्षी पार्टियों नेशनल कॉन्फ्रेंस (एनसी) और कांग्रेस ने कश्मीर में नागरिकों की हत्या और मानवाधिकार के मुद्दे को लेकर बुधवार को सदन से बहिर्गमन किया. विपक्षी दलों ने सरकार के खिलाफ नारे भी लगाए. कश्मीर में नागरिकों की हत्या और मानवाधिकार उल्लंघन के मुद्दों पर विपक्षी पार्टियां चर्चा चाहती थी. Also Read - कांग्रेस के G-23 नेता आज जम्मू में साझा करेंगे मंच, पार्टी के नेतृत्व पर उठा चुके हैं सवाल

सदन की बैठक शुरू होते ही नेशनल कॉन्फ्रेंस और कांग्रेस ने प्रश्न काल स्थगित करके नागरिकों की हत्या के मुद्दे पर चर्चा कराने की मांग की. अध्यक्ष कविंद्र गुप्ता ने इसकी अनुमति नहीं दी. इस पर विपक्ष के सदस्य सरकार के खिलाफ नारे लगाते हुए अध्यक्ष के आसन के नजदीक पहुंच गए. Also Read - Mysore Mayor Election: महापौर चुनाव के लिए एक साथ आए कांग्रेस और जेडीएस

अध्यक्ष ने विपक्षी पार्टियों की मांग खारिज करते हुए कहा कि वे शून्य काल के दौरान ये मुद्दे उठाएं. विपक्षी दलों के सदस्य इस दौरान जोर-जोर से नारे लगाते हुए सदन के कामकाज में बाधा पहुंचाने लगे. मंत्री ए आर वीरी ने कहा कि विपक्ष के पास कोई मुद्दा नहीं है और वह सिर्फ सदन का समय बरबाद कर रहा है. इसके बाद विपक्षी दल नारे लगाते हुए बाहर चले गए. Also Read - भाजपा सांसद साक्षी महाराज का विवादित बयान, बोले- नेताजी को कांग्रेस ने मरवाया

नेशनल कॉन्फ्रेंस के विधायक अली मोहम्मद सागर ने संवाददाताओं को बताया कि वह चाहते थे कि राज्य में नागरिकों की हत्या के मुद्दे पर चर्चा के लिए प्रश्नकाल स्थगित किया जाये लेकिन अध्यक्ष ने इसकी अनुमति नहीं दी.