नई दिल्लीः रेलवे टिकट बुक कराने में बढ़ती मारामारी और बाहरी दलालों की भूमिका से बचने के लिए आईआरसीटीसी ओटीपी आधारित प्रणाली लेकर आया है. इसके द्वारा यात्रियों को टिकट कैंसल कराने में सुविधा होगी और आईआरसीटीसी द्वारा दिए गए पासवर्ड के इस्तेमाल से ही पैसेंजर को अपना रिफंड मिलेगा. इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉर्पोरेशन लिमिटेड (आईआरसीटीसी) की ओर से जारी बयान में कहा गया कि यह प्रणाली केवल उसके अधिकृत एजेंटों के माध्यम से बुक कराई गई ई-टिकटों पर लागू होगी. Also Read - IRCTC/Indian Railways: ट्रेन से पश्चिम बंगाल जा रहे हैं तो पहले ये खबर पढ़ लें, पहुंचने पर हो सकती है मुश्किल

Also Read - Indian Railways/IRCTC: 7 मई से अगले आदेश तक रद रहेंगी कई ट्रेनें, सफर पर निकलने से पहले देख लें पूरी लिस्ट

बयान में कहा गया, “ओटीपी आधारित रिफंड प्रक्रिया उपभोक्ताओं के लाभ के लिए व्यवस्था में ज्यादा पारदर्शिता सुनिश्चित करेगी. यह उपभोक्ता अनुकूल सुविधा होगी जहां यात्री कैंसल कराई गई टिकट या पूर्ण वेटिंग लिस्ट टिकट के लिए उसकी तरफ से एजेंट द्वारा प्राप्त की गई रिफंड राशि की सही सूचना पा सकेगा.” Also Read - Indian Railways/IRCTC: वेस्टर्न रेलवे ने इन स्पेशल ट्रेनों के फेरे बढ़ा दिए, कल से टिकटों की बुकिंग होगी शुरू

तेजस में करना चाहते हैं सफर तो BONANZA OFFER में टिकट बुक कराने का आज है आखिरी दिन

नई प्रणाली के तहत, जब भी कोई यात्री अधिकृत आईआरसीटीसी एजेंट के जरिए बुक कराई गई टिकट या पूर्ण वेटलिस्ट टिकट कैंसल कराता है तो रिफंड राशि और वन टाइम पासवर्ड (ओटीपी) का एक एसएमएस यात्री के मोबाइल नंबर पर भेजा जाएगा. यात्री को रिफंड पाने के लिए उस एजेंट के साथ यह ओटीपी साझा करना होगा जिसने टिकट बुक की थी.

आईआरसीटीसी के एक अधिकारी ने प्रक्रिया के बारे में विस्तार से बताया कि अब जब रिफंड ओटीपी आधारित होगा, यात्रियों को बस इतना करना होगा कि वे बुकिंग के वक्त अपना ही फोन नंबर दें. अधिकारी के मुताबिक करीब 27 प्रतिशत टिकट रोजाना अधिकृत एजेंटों के जरिए बुक कराए जाते हैं. इनमें से 20 प्रतिशत टिकट रोजाना कैंसल कराई जाती हैं.