नयी दिल्ली: कांग्रेस नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम ने आर्थिक नरमी को लेकर केंद्र सरकार पर बृहस्पतिवार को बड़ा हमला किया और इस मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हैरान करने वाली चुप्पी को लेकर सवाल उठाया. जेल में 106 दिन रहने के बाद जमानत पर बाहर आए चिदंबरम ने कहा कि अर्थव्यवस्था में आ रही लगातार सुस्ती पर प्रधानमंत्री की चुप्पी के चलते उनके मंत्री झांसा द रहे हैं और शेखी बघारने में लगे हुये हैं.


चिदंबरम ने अपनी प्रेस कॉन्फ्रेंस की शुरुआत में कहा कि रिहाई के बाद उनके मन में जो पहला ख्याल आया वह कश्मीरी लोगों को लेकर था. जिन्हें चार अगस्त 2019 से उनके बुनियादी अधिकारों से वंचित कर दिया गया. चिदंबरम ने कहा कि यदि सरकार मुझे अनुमति देती है तो मैं जम्मू-कश्मीर जाना चाहूंगा. कांग्रेस नेता ने अपने मामले पर कुछ भी बोलने से इनकार करते हुए कहा कि शीर्ष न्यायालय के फैसले से “धूल की कई परतें” छंट जायेंगी, जो कि आपराधिक कानून के बारे में हमारी समझ और न्यायालयों द्वारा आपराधिक कानून को प्रशासित करने के तौर तरीकों पर जम गईं हैं.


अर्थव्यवस्था की स्थिति पर सरकार को घेरा
अर्थव्यवस्था की स्थिति पर बोलते हुए पूर्व वित्त मंत्री ने कहा कि चालू वित्त वर्ष के सात महीने बीतने के बावजूद भाजपा सरकार यह मान रही है कि अर्थव्यवस्था में जो समस्याएं हैं, वे चक्रीय परिस्थितियों की वजह से हैं. उन्होंने कहा कि सरकार इस मोर्चे पर गलत साबित होगी. वह इसलिए गलत है क्योंकि वह अर्थव्यवस्था के मामले में अंधेरे में है उसे कोई जानकारी नहीं है. वह प्रधानमंत्री कार्यालय के नोटबंदी, त्रुटिपूर्ण जीएसटी, कर आतंकवाद और संरक्षणवाद जैसी भयानक गलतियों का बचाव करने पर अड़ी हुई है.

मौजूदा सरकार ने लाखों लोगों को गरीबी रेखा से नीचे धकेला: चिदंबरम
चिदंबरम के मुताबिक, संप्रग सरकार ने 2004 से 2014 के बीच 14 करोड़ लोगों को गरीबी से बाहर निकाला जबकि भाजपा नीत राजग ने 2016 से अब तक लाखों लोगों को गरीबी रेखा से नीचे धकेल दिया है. उन्होंने कहा कि अर्थव्यवस्था को सुस्ती से बाहर निकाला जा सकता है लेकिन यह सरकार ऐसा करने में अक्षम है. मेरा मानना ​​है कि कांग्रेस और कुछ अन्य दल अर्थव्यवस्था को मंदी से बाहर निकालने और आर्थिक वृद्धि को आगे बढ़ाने में सक्षम हैं लेकिन हमें बेहतर समय का इंतजार करना होगा.


उद्योगपति राहुल बजाज की टिप्पणी पर बोले- हर जगह डर का माहौल
उद्योगपति राहुल बजाज की टिप्पणी पर चिदंबरम ने कहा कि हर जगह डर का माहौल है. मीडिया भी भय की चपेट में है. हाल ही में बजाज ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की उपस्थिति में कहा था कि देश में भय का माहौल बना हुआ है और लोग सरकार की आलोचना करने से घबराते हैं. उन्होंने कहा कि यदि सरकार का मानती है कि गांधी परिवार को एसपीजी सुरक्षा की जरूरत नहीं है तो इसका खामियाजा सरकार को भुगतना पड़ेगा. उल्लेखनीय है कि सरकार ने हाल ही में सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा की विशेष सुरक्षा समूह (एसपीजी) सुरक्षा हटा ली है.