नई दिल्ली: पूर्व वित्तमंत्री पी. चिदंबरम ने गुरुवार को सीबीआई की अदालत में पेश हुए अपने बेटे कार्ति से कहा, ‘चिंता मत करो मैं यहां हूं.’ आईएनएक्स मीडिया से जुड़े कथित रिश्वत मामले में कार्ति को केंद्रीय जांच ब्यूरो की कोर्ट में गुरुवार में उनकी हिरासत की अवधि बढ़ाने के लिए पेश किया गया था. वरिष्ठ कांग्रेस नेता ने अपने बेटे की पीठ पर हाथ रखकर उनको हौसला दिया. चिदंबरम की पत्नी नलिनी चिदंबरम पहले से ही अदालत में मौजूद थीं. Also Read - Aaj Ka Panchang 21 September 2020: आज शुक्ल पक्ष पंचमी पर देखें पंचांग, शुभ-अशुभ समय, राहुकाल

सीबीआई न्यायाधीश सुनील राणा के सामने तीन घंटे चली बहस के दौरान अधिवक्ता दंपति अदालत में मौजूद थे. न्यायाधीश ने कार्ति के माता-पिता को जांच अधिकारी की मौजूदगी में सुनवाई के बीच अवकाश के समय में उनसे बात करने की इजाजत दी. अदालत ने इसके बाद अपने फैसले में कार्ति की सीबीआई हिरासत अवधि पांच दिन के लिए बढ़ा दी. न्यायाधीश ने कार्ति को घर का बना भोजन खाने की अनुमति तो नहीं दी, लेकिन उन्हें दवाई लेने और स्वास्थ्य जांच करवाने की इजाजत दी.कोर्ट ने आदेश दिया कि कार्ति अपने वकील से सुबह एक घंटा और शाम को एक घंटा मिल सकते हैं. डॉक्टर के प्रस्क्रिप्‍शन पर ही उन्हें दवा लेने की इजाजत होगी. घर का खाना नहीं दिया जाएगा.

आईएनएक्स मीडिया मनी लॉन्ड्रिंग मामले में गिरफ्तार कार्ति चिदंबरम को पटियाला हाउस कोर्ट ने 5 दिन की रिमांड पर दे दिया. गुरुवार को कार्ति की दोबारा अदालत में पेशी हुई, जहां सीबीआई और बचाव पक्ष के बीच लंबी बहस चली. इसके बाद अदालत ने ये फैसला सुनाया. कोर्ट ने बुधवार को( कार्ति को एक दिन की सीबीआई रिमांड पर दिया था. कार्ति को बुधवार को चेन्नई एयरपोर्ट से गिरफ्तार किया गया था जब वह लंदन से लौटे थे. इसके बाद उनकी कोर्ट में पेशी हुई थी. कार्ति की ओर से कांग्रेस नेता और वरिष्ठ वकील अभिषेक मनु सिंघवी केस की पैरवी कर रहे हैं. (इनपुट- एजेंसी)